चिकोटी

दया, प्रेम के सिन्धु हैं,

अपने मन के राम।

हथियारों से लैस हैं,

तेरे घर के राम।

यही मौलिक अंतर है।

-धीरु भाई