तीखा तीर

बड़ी बड़ी  ड़ींगे हाक कर 

भरी  रॉयाल भांति दहाड़ 

दादा ने जाल फेंक  दी 

दल में होने वाले दो फाड 

     --- वीरेन्द्र तोमर