माँ भारती के चरणों में

माँ भारती तेरे चरणों में हम नमन करते हैं,

शहीदों की रक्तिम गाथा से तर्पण करते हैं।

शीश नवां प्रण करते हैं तुझे आँच न आने देंगे,

माँ भारती तुझे विशुद्ध भावों का अर्पण करते हैं।


तिरंगे की आन बान शान की रक्षा फर्ज़ हमारा,

याद कर शहीदों को देशभक्ति ज्वलंत करते हैं।

विस्मृत न होने देंगे हम भगत,सुभाष के किस्सों को,

आज़ाद हैं और आज़ादी का प्रण करते हैं।


है भारत स्वतंत्र हमारा,पुलकित भू स्निग्ध नभ प्यारा,

तेरी महिमा का ऐ वतन हम नित नव सृजन करते हैं।

कलुषित दृग दुश्मनों के देते हैं हम निकाल,

रिपुरक्त से हम बसंत करते हैं,वीरगाथा जीवंत करते हैं।


                    रीमा सिन्हा (लखनऊ)