सीतापुर पुलिस ने 04 जिला बदर अभियुक्तों को गिरफ्तार किया।

ब्यूरो , सीतापुर ।  जनपद सीतापुर में पुलिस अधीक्षक सीतापुर घुले सुशील चंद्रभान द्वारा जनपद सीतापुर में अपराधों पर अंकुश लगाने हेतु एवं वांछित अपराधियों के विरुद्ध कार्यवाही व गिरफ्तारी हेतु निरंतर प्रभावी अभियान चलाया जा रहा है। उक्त निर्देश के क्रम में थाना इमलिया सुल्तानपुर, लहरपुर, पिसावां पुलिस टीम द्वारा जिला मजिस्ट्रेट महोदय सीतापुर द्वारा जनपद की सीमा से छः माह के लिये निष्कासित किये गये कुल 04 जिला बदर अभियुक्तों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है।

 विवरण निम्न है- थाना इ.सु.पुर पुलिस द्वारा जिलाबदर अभियुक्त गिरफ्तारः- थाना इ.सु.पुर पुलिस टीम ने जिला मजिस्ट्रेट महोदय सीतापुर द्वारा जनपद की सीमा से छः माह के लिये निष्कासित किये गये जिला बदर अभियुक्त मुकेश पुत्र श्री केशन निवासी ग्राम बेलहरा थाना इमलिया सुल्तानपुर सीतापुर को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। अभियुक्त के विरुद्ध मु0अ0सं0 327/2022 धारा 10 यू0पी0 गुंडा निवारण अधिनियम पंजीकृत कर चालान मा0 न्यायालय किया गया है। अपराधिक इतिहास -मु0अ0सं0-119/2016 धारा 344/506/366/376घ भा0द0वि0 थाना इ0सु0पुर सीतापुर । 

और थाना पिसावां पुलिस द्वारा 02 जिलाबदर अभियुक्त गिरफ्तारः- थाना पिसावां पुलिस टीम ने जिला मजिस्ट्रेट महोदय सीतापुर द्वारा जनपद की सीमा से छः माह के लिये निष्कासित किये गये 02 जिला बदर अभियुक्त 1.सिरताज पुत्र हनीफ निवासी ग्राम उदयपुर वादफर्रोस थाना पिसावां जनपद सीतापुर को 01 अदद अवैध तमंचा मय 01 अदद जिन्दा कारतूस के साथ तथा अभियुक्त 2.धीरज पुत्र विश्राम निवासी ग्राम सैतियापुर थाना पिसावां जनपद सीतापुर को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। इस संबंध में अभियुक्त सिरताज के विरुद्ध मु0अ0सं0 324/22 धारा 10 यू0पी0 गुंडा निवारण अधिनियम व मु0अ0सं0 325/22 धारा 25(1-बी) आयुध अधिनियम तथा अभियुक्त धीरज उपरोक्त के विरुद्ध मु0अ0सं0 326/22 धारा 10 यू0पी0 गुंडा निवारण अधिनियम पंजीकृत कर चालान मा0 न्यायालय किया गया है।

 तथा थाना लहरपुर पुलिस द्वारा जिलाबदर अभियुक्त गिरफ्तारः- थाना लहरपुर पुलिस टीम ने जिला मजिस्ट्रेट महोदय सीतापुर द्वारा जनपद की सीमा से छः माह के लिये निष्कासित किये गये जिला बदर अभियुक्त अजमेरुद्दीन पुत्र छोट्टन निवासी ग्राम नेवादा थाना लहरपुर जनपद सीतापुर को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। अभियुक्त के विरुद्ध मु0अ0सं0 523/22 धारा 10 यू0पी0 गुंडा निवारण अधिनियम पंजीकृत कर चालान मा0 न्यायालय किया गया है।