WI vs IND: जानें टीम इंडिया की जीत की ये वजहें

West Indies vs India 2022: भारत ने वेस्टइंडीज को पहले रोमाचक मुकाबले में 3 रनों से हराकर 3 मैचों की इस वनडे सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए शिखर धवन, शुभमन गिल और श्रेयस अय्यर के अर्धशतकों की मदद से बोर्ड पर 308 रन लगा दिए थे। विंडीज के लिए इस दौरान अल्जारी जोसेफ और गुडाकेश मोती ने 2-2 विकेट लिए। 309 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी वेस्टइंडीज के लिए काइल मेयर्स ने सर्वाधिक 75 रन बनाए। उनके अलावा ब्रेंडन किंग 50 का आंकड़ा पार करने में कामयाब रहे। भारत के लिए सिराज, शार्दुल और चहल ने 2-2 विकेट लिए। आइए टीम इंडिया की जीत के 5 मुख्य कारणों पर एक नजर डालते हैं-

सीनियर खिलाड़ियों की गैरमौजूदगी में मैच से पहले यह नहीं पता था कि शिखर धवन किस खिलाड़ी के साथ ओपनिंग करेंगे। विकल्प के रूप में गिल, गायकवाड़ और किशन थे। टीम मैनेजमेंट ने गिल को चुना और दाएं हाथ के इस खिलाड़ी ने मौके को दोनों हाथों से लपका। धवन ने 97 और गिल ने 64 रन की शानदार पारी खेल टीम को शानदार शुरुआत दी। दोनों खिलाड़ियों ने पहले विकेट के लिए कुल 119 रन जोड़े। धवन ने इस दौरान कप्तानी पारी खेलते हुए 99 गेंदों पर 10 चौकों और 3 छक्कों की मदद से 97 रन बनाए। उन्हें इस पारी की वजह से मैन ऑफ द मैच के अवॉर्ड से भी नवाजा गया।

श्रेयस अय्यर की शॉर्ट बॉल की कमजोरी जगजाहिर है, उम्मीद थी इंग्लैंड के बाद वेस्टइंडीज भी इसका जमकर फायदा उठाएगा। विंडीज गेंदबाजों ने प्रयास तो किया मगर अय्यर के जुझारूपन ने उन्हें बचाया। धीमी शुरुआत के बावजूद अय्यर ने 57 गेंदों पर 5 चौकों और 2 छक्कों की मदद से 54 रन की शानदार पारी खेली। अय्यर इस पारी के दम पर वनडे क्रिकेट में सबसे तेज 1000 रन पूरे करने वाले संयुक्त रूप से दूसरे खिलाड़ी बने।

टॉप ऑर्डर के शानदार प्रदर्शन के बाद उम्मीद लगाई जा रही थी कि मिडिल ऑर्डर टीम को बड़े स्कोर की ओर ले जाएगा। मगर सूर्यकुमार 13 तो सैमसन 12 रन बनाकर आउट हो गए। इसके बाद अंत में दीपक हुड्डा ने अक्षर पटेल के साथ छोटी मगर शानदार साझेदारी कर टीम को 300 के पार पहुंचाया। हुड्डा ने 32 गेंदों पर 27 तो अक्षर ने 21 रन की पारी खेली। दोनों खिलाड़ियों को अल्जारी जोसेफ ने पवेलियन का रास्ता दिखाया।

309 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी वेस्टइंडीज को अच्छी शुरुआत नहीं मिली थी। शे होप मात्र 7 रन बनाकर आउट हुए। मगर इसके बाद काइल मेयर्स ने शमरह ब्रूक्स (46) के साथ शतकीय साझेदारी कर टीम को मुश्किल से निकाला। विंडीज मैच पर शिकंजा कस ही रही थी तभी शार्दुल ठाकुर ने 24वें ओवर में शमरह ब्रूक्स को तो 26वें ओवर में मेयर्स को आउट कर भारत की मैच में वापसी करवाई। दोनों सेट बल्लेबाजों को बैक टू बैक ओवरों में आउट कर शार्दुल ने एक बार फिर अपना लोहा दुनिया के सामने मनवाया।

आखिरी ओवर में विंडीज को जीत के लिए 15 रनों की दरकार थी, मगर मोहम्मद सिराज ने इसे शानदार अंदाज में डिफेंड करते हुए मात्र 11 ही रन खर्च किए और टीम को रोमांचक जीत दिलाई। पहली दो गेंदों पर उन्होंने 1 ही रन दिया था। इसके बाद तीसरी गेंद पर शेफर्ड को भाग्य के साथ के साथ वेस्टइंडीज को चौका मिला। चौथी गेंद पर सिराज ने अच्छी फेंकी और दो ही रन खर्च किए। आखिरी दो गेंदों पर सिराज ने 4 रन दिए और मैच टीम इंडिया की झोली में डाला। सैमसन ने इस दौरान एक फूल स्ट्रेच डाइव लगाते हुए वाइड गेंद को चौके में तबदील होने से भी रोका था।