IND vs WI: भारत ने हासिल की सबसे बड़ी जीत, शुभमन को चुना गया प्लेयर ऑफ द सीरीज

भारत ने तीसरे वनडे में वेस्टइंडीज को 119 रन से हरा दिया है। बारिश से बाधित मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए टीम इंडिया ने डकवर्थ लुईस नियम के तहत विंडीज के सामने 35 ओवर में 257 रन का लक्ष्य रखा था। जवाब में वेस्टइंडीज की पूरी टीम 26 ओवर में 137 रन पर सिमट गई। ब्रैंडन किंग और निकोलस पूरन ने अपनी टीम की तरह से सबसे ज्यादा 42-42 रन बनाए।

वहीं, भारत की ओर से युजवेंद्र चहल ने सबसे ज्यादा चार विकेट झटके। वनडे सीरीज के बाद अब भारतीय टीम 29 जुलाई से वेस्टइंडीज के खिलाफ पांच मैचों की टी-20 सीरीज खेलेगी। टी-20 सीरीज में भारतीय टीम की कमान रोहित शर्मा संभालेंगे। विराट और जसप्रीत बुमराह वनडे के बाद टी-20 सीरीज भी नहीं खेलेंगे। दोनों को आराम दिया गया है।

तीसरे वनडे में बारिश ने दो बार खलल डाला और दोनों बार भारतीय पारी को ही बीच में रोकना पड़ा। पहली बार जब मैच रुका तो अंपयारों ने इसे 40 ओवर का कर दिया था। वहीं, दूसरी बार रुकने पर मुकाबले को 35 ओवर पर साइड कर दिया गया। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए दूसरी बार खेल रुकने तक 36 ओवर में तीन विकेट पर 225 रन बनाए थे। हालांकि, 35 ओवर का मैच होने की वजह से डीएलएस के तहत वेस्टइंडीज को 257 रन का लक्ष्य मिला, पर विंडीज की टीम 137 रन ही बना सकी।

इस जीत के साथ ही टीम इंडिया ने वनडे सीरीज में वेस्टइंडीज का सफाया कर दिया है। भारत ने वनडे सीरीज 3-0 से अपने नाम की। भारतीय टीम 39 साल से वेस्टइंडीज में वनडे सीरीज खेल रही है और उसने पहली बार कैरेबियाई टीम को उसके घर में क्लीन स्वीप किया है। शुभमन गिल को उनकी नाबाद 98 रन की पारी के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया। शुभमन ने इस सीरीज में तीन मैचों में 205 रन बनाए। इसके लिए उन्हें प्लेयर ऑफ द सीरीज भी चुना गया।

119 रन की जीत वेस्टइंडीज के खिलाफ उसकी जमीन पर वनडे में भारत की सबसे बड़ी जीत है। इसके साथ ही भारत ने विंडीज के खिलाफ लगातार 12वीं द्विपक्षीय वनडे सीरीज जीती। यह किसी एक टीम के खिलाफ लगातार सबसे ज्यादा द्विपक्षीय सीरीज जीतने का रिकॉर्ड है। 

वहीं, वेस्टइंडीज को अपने घर में लगातार दूसरी वनडे सीरीज में करारी हार मिली है। इससे पहले बांग्लादेश ने विंडीज का 3-0 से क्लीन स्वीप किया था। विंडीज को लगातार नौवें वनडे में हार मिली है। वेस्टइंडीज ने लगातार सबसे ज्यादा 11 वनडे गंवाए हैं। ऐसा 2005 में हुआ था। टीम अपने इस शर्मनाक रिकॉर्ड को तोड़ने से बस दो हार दूर है। 

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत अच्छी रही। कप्तान शिखर धवन और शुभमन गिल ने पहले विकेट के लिए 113 रन जोड़े। धवन ने वनडे करियर का 37वां अर्धशतक लगाया। वे 74 गेंदों में 58 रन बनाकर आउट हुए। इसके बाद श्रेयस अय्यर ने शुभमन के साथ मिलकर 86 रन की साझेदारी निभाई। श्रेयस 44 रन बनाकर आउट हुए। सूर्यकुमार यादव आठ रन बनाकर आउट हुए। 

जब दूसरी बार खेल रुका तो शुभमन गिल 98 रन बनाकर बल्लेबाजी कर रहे थे और बारिश की वजह से शतक पूरा नहीं कर पाए। शुभमन एक बार फिर अपने पहले अंतरराष्ट्रीय शतक से चूक गए। तीनों फॉर्मेट मिलाकर 98 नाबाद रन शुभमन का सर्वश्रेष्ठ अंतरराष्ट्रीय स्कोर है। वहीं, उनके साथ संजू सैमसन छह रन बनाकर नाबाद लौटे। वेस्टइंडीज की ओर से हेडन वॉल्श ने दो और अकील हुसैन ने एक विकेट लिया।

257 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी वेस्टइंडीज की टीम की शुरुआत बेहद खराब रही। शून्य पर विंडीज ने दो विकेट गंवा दिए थे। मोहम्मद सिराज ने अपने पहले ही ओवर में कायल मेयर्स (0) और शामराह ब्रूक्स (0) को पवेलियन भेजा। इसके बाद शाई होप ने ब्रैंडन किंग के साथ तीसरे विकेट के लिए 47 रन की साझेदारी निभाई। युजवेंद्र चहल ने होप को विकेटकीपर सैमसन के हाथों स्टंप कराया। होप 22 रन बना सके। इसके बाद किंग और कप्तान निकोलस पूरन के बीच चौथे विकेट के लिए 27 रन की साझेदारी हुई।

अक्षर पटेल ने ब्रैंडन किंग को बोल्ड किया। आउट होने से पहले किंग ने 37 गेंदों में पांच चौके और एक छक्का की मदद से 42 रन की पारी खेली। केसी कार्टी कुछ खास नहीं कर सके और पांच रन बनाकर शार्दुल ठाकुर की गेंद पर बोल्ड हुए। कप्तान निकोलस पूरन बड़े शॉट लगाने के चक्कर में प्रसिद्ध कृष्णा की गेंद पर धवन को कैच दे बैठे। वह 32 गेंदों में पांच चौके और एक छक्का की मदद से 42 रन बनाकर आउट हुए। उनके आउट होते ही विंडीज की पूरी टीम लड़खड़ा गई। 

शार्दुल ने अकील हुसैन (1) को पवेलियन भेजा। फिर चहल ने कीमो पॉल (0), हेडन वॉल्श (10) और जेडन सील्स (0) को आउट कर विंडीज की पारी को 137 रन पर समेट दिया। जेसन होल्डर नौ रन बनाकर नाबाद रहे। चहल (4 विकेट) के अलावा मोहम्मद सिराज और शार्दुल ठाकुर को दो-दो विकेट मिले। वहीं, अक्षर और प्रसिद्ध को एक-एक विकेट मिला।