सावन के महीने में चिकन की कीमतों में भारी गिरावट, गिरे अंडे के भी दाम

नई दिल्ली : सावन के महीने में चिकन की कीमतों में भारी गिरावट दर्ज की जा रही है। यह गिरावट महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ में सबसे तेज रही है। महाराष्ट्र में चिकन का रेट रु 115/किलोग्राम से घटकर रु 60/किलोग्राम और झारखंड में रु 50/किलोग्राम हो गई है। उत्तर भारत में सावन महीने के कारण कीमतें गिर गईं। इस महीने में कई लोग मांस खाना छोड़ देते हैं, जिससे खपत में गिरावट आती है और चिकन के वजन में वृद्धि होती है। चिकन कारोबारियों को व्यापक बारिश के कारण मुर्गे-मुर्गियों को बेचने के लिए मजबूर होना पड़ता है।

पोल्ट्री ब्रीडर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के संयोजक वसंतकुमार शेट्टी ने कहा , "फार्म गेट चिकन की कीमतें पिछले एक पखवाड़े के दौरान रु 115/किलोग्राम से घटकर रु 60/किलो हो गई हैं, जो उत्पादन की लागत से कम है। कीमतों में गिरावट तेज है और महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ में अपेक्षा से अधिक है।"

पोल्ट्री इंटीग्रेटर्स ने कहा कि उत्तर भारत, जहां 15 जुलाई से श्रावण का महीना शुरू हुआ था तब से मांग काफी कम हो गई है। उनका यह भी मानना ​​है कि जून में ऊंची कीमतों के कारण कुल उपभोक्ता मांग में गिरावट आई है। जहां उद्योग पहले से अपेक्षा से अधिक और अखिल भारतीय कीमतों में गिरावट से हैरान है, वहीं मौसम में बदलाव जैसे कारकों ने भी इस प्रवृत्ति को प्रभावित किया है। विभिन्न शहरों में अंडे की कीमतों में भी 30-35% की गिरावट आई है।