दौरे झमाझम आया है...!

दौरे झमाझम आया है,

समां मस्ती का छाया हैं,

फिजाऐं गीत गा रही हैं,

बरखा संगीत बजा रही हैं !


थोड़ी सी बरखा में सड़कें,

फूलमफूल लबालब हो गई,

बाहर निकलें किस तरह यह

समझ नहीं आ रहा हैं.....!


कल फिर बादल घिर आऐंगे,

कल फिर बिजली चमकेगी,

कल फिर मेघा बरसेंगे, और

कल फिर सड़कें बह निकलेगी !


- मदन वर्मा " माणिक "

  इंदौर, मध्यप्रदेश