गुरू के बिना जीवन की कोई दिशा नहीं: स्वामी ज्ञानानंद महाराज

गुरू के प्रति कृतज्ञता का दिन है गुरू पूजा

सहारनपुर । श्रीकृष्ण कृपा जीओ गीता परिवार सहारनपुर के तत्वावधान में गुरू पूजा (ब्यास पूजा) का कार्यक्रम बड़ी धूमधाम से श्री राधाकृष्ण सनातन धर्म मंदिर बड़ा चौक हकीकत नगर में मनाया गया। कार्यक्रम में पूज्य महाराज गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानन्द महाराज ने पुराणों के रचयिता श्री वेद व्यास जी के बारे में बताया कि गुरू पूर्णिमा ब्याज पूजा उन्हीं के नाम से प्रचलित है। उन्होने सभी पुराणों की रचना की, जीवन को सही दिशा में देने के लिए गुरू की प्राप्ति आवश्यक है। गुरू के बिना जीवन की कोई दिशा नहीं है। 

वेद, उपनिषद और पुराणों में गुरू की विशेष महिमा है। गुरू को ब्रहमा, विष्णु, महेश जैसे नामों से अलंकृत किया गया है। गुरू ही वह शक्ति है जो पूरे राष्ट्र को एकसूत्र में रख सकती है। कार्यक्रम में लगातार भजन भावों का प्रवाह चलता रहा। कार्यक्रम में मुख्य रूप से संस्था के संरक्षक व मार्गदर्शक अतुल जोशी, संस्थाध्यक्ष पवन कुमार, महासचिव राजकुमार विज, कोषाध्यक्ष अजय मलिक, संस्था चेयरमैन मनमोहन भरतरी, संरक्षक अशोक पपनेजा, राम आनन्द, राजा नागपाल, चन्द्रशेखर टक्कर, प्रवीण अरोड़ा, बाल मुकुन्द छाबड़ा, भीमसैन नारंग, मंगल कोचर, मुकेश रवि, अशोक आहूजा, अशोक बजाज, संजय रवि, श्याम छाबड़ा, विशाल भल्ला, सुरेश रवि, हरीश नारंग, राजेश रवि, संदीप गोयल, सचिन छाबड़ा, आशीष मलिक, अमरपाल, इन्द्रजीत भारती, ओ.पी.वधवा, अश्वनी लूथरा, मनोज चुग, प्रदीप गंभीर, रमेश खुराना, विक्की, वैभव आदि शामिल रहे।