पावन मधुमास में

शिव  मंगल  मास  में ,

      पावन  मधुमास  में ,

आँगन  की  अँजोरिया

       हताश  निराश  है ।


समीरण स्पर्शन  में ,

     ललित  उपवन  में ,

सुना  चित्त  चितवन

      उद्वेलित  श्वास  है ।


झूलनोत्सव  जश्न  में ,

     मुग्ध  मेहंदी  हश्र  में ,

अलंकरण  श्रृंगार

     अंजन  उदास  है ।


कुसुमित  मुदित  में ,

      हरीतिमा  हर्षित  में ,

 अश्रुपूरित  नैनों  को

      प्रीतम  की  आस  है ।

    

✍️ ज्योति नव्या श्री

 रामगढ़, झारखण्ड