गैस सिलेंडर बना घर की सजावट का सामान: वरुण गांधी

गरीब के रसोई में फिर धुंआ ही धुंआ

लखनऊ। पीलीभीत से बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने रसोई गैस के बढ़ते दामों को लेकर अपनी ही सरकार को घेरा है। उन्होंने ट्वीट कर सिलेंडर को सजावट की वस्तु बताया। उत्तर प्रदेश में पीलीभीत से बीजेपी के सांसद वरुण गांधी लगातार बढ़ रहे पेट्रोलियम प्रोडक्ट के दामों को लेकर सरकार को घेर रहे हैं। बीते लंबे समय से वरुण गांधी को आम जनता के सवालों को उठाने और अपनी ही सरकार को घेरते देखा गया है। अब वह रसोई गैस  के बढ़ते दामों से गरीब जनता की बदहाली को लेकर केंद्र सरकार से सवाल कर रहे हैं।

अपने नए ट्वीट में वरुण गांधी ने लिखा है कि श्चूल्हे पर लकड़िया, जल रही हैं और लाल सिलेंडर सजावट की वस्तु बना हुआ है, गैस की पासबुक के पन्नों में महीनों से कोई एंट्री नहीं चढ़ी है। ये उन लाखों महिलाओं का दर्द है जिन्हें हमने श्धुएं से आजादीश् का सपना दिखाया था,यह वही महिलाये हैं जिन्होंने हम पर सबसे अधिक भरोसा जताया था। देश के कई गरीब परिवारों को केंद्र सरकार की ओर से उज्जवला योजना के तहत गैस कनेक्शन मुहैया कराए गए थे लेकिन लगातार बढ़ रहे महंगाई और रसोई गैस के दाम के कारण अब उन्हीं सिलेंडरों को भरना गरीब इंसान की पहुंच से बाहर होता जा रहा है,जिसे लेकर बीजेपी के सांसद वरुण गांधी ने केंद्र सरकार पर सवाल उठाया है। 

वरूण गांधी ने इसे लेकर एक और ट्वीट किया था,जिस दौरान उन्होंने लिखा था कि श्घरेलू सिलेंडर अब 1050 रु में मिलेगा! जब देश में बेरोजगारी चरम पर है, तब भारतवासी पूरी दुनिया में सबसे महंगी एलपीजी खरीद रहे हैं। कनेक्शन कॉस्ट 1450 से बढ़ाकर 2200 रूपये, सिक्योरिटी 2900 से बढ़ाकर 4400,  रेगुलेटर 100 रूपये महंगा हो गया है। गरीब की रसोई फिर धुएं से भरने लगी है। बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने महंगाई और रसोई गैस  के बढ़ते दामों के अलावा भी कई मुद्दों पर अपनी राय बेबाकी से रखी है। इससे पहले वरुण गांधी ने सीमाओं पर अपनी जान हथेली पर रख उसकी रखवाली करने वाले बीएसएफ  के जवानों का भी मुद्दा उठाया था। कृषि कानून और गन्ना मूल्य में बढ़ोत्तरी को लेकर भी सरकार को घेरने की कोशिश की है।