मस्जिद के सामने से बारात निकालने पर फेंके अंडे, गांव में फोर्स तैनात

अलीगढ। बकरीद के त्योहार से पहले एक बार फिर माहौल बिगाड़ने की कोशिश हुई है। टप्पल के नूरपुर गांव में हिंदुओं की बारात में गैर समुदाय के लोगों ने छतों से अंडे फेंक कर मारे। जिसके बाद माहौल बिगड़ना शुरू हो गया। घटना की सूचना मिलते ही इलाके में भारी संख्या में फोर्स तैनात कर दी गई। पीड़ित पक्ष ने 4 लोगों के खिलाफ नामजद तहरीर दी है, जिसके बाद पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ एससी एसटी एक्ट समेत विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। 

टप्पल थाना क्षेत्र के गांव नूरपुर में शुकवार रात लगभग 10 बजे को जाटव समाज की दो बेटियों की बारात आई थी। जाटव समाज के धर्मवीर अपनी दोनों बेटियों की शादी एक साथ ही कर रहे थे। दोनों बारात गौतमबुद्ध नगर (नोएडा) से आई थी। एक बारात गांव अच्छेजा और दूसरी बारात खैली गांव से अलीगढ़ आई थी। आरोप है कि बारात में लोग नाच गा रहे थे, इसी दौरान गैर समुदाय के कुछ लोगों ने छतों से अंडे फेंकने शुरू कर दिए। बारातियों को जैसे ही इसकी जानकारी हुई तो अफरा-तफरी का माहौल बन गया और लोग इधर उधर भागने लगे। 

लोगों ने इसकी जानकारी तत्काल पुलिस को दी, जिसके बाद पुलिस और प्रशासन के लोग मौके पर पहुंच गए। टप्पल के नूरपुर निवासी हनुमानदास ने बताया कि 7 की रात को उनकी दो भतीजियों की बारात आई थी। बारात जैसे ही मुस्लिम बस्ती में पहुंची, तो लोगों ने छतों से अंडे फेंकने शुरू कर दिए। पीड़ित ने आरोप लगाया कि पहले अराजक तत्वों ने छतों से अंडे फेंके, उसके बाद वह जाति सूचक शब्द कहते हुए वहां से भाग गए। यह घटना पहली बार नहीं हुई है, जब हिंदुओं की शादी में गैर समुदाय के लोगों ने हंगामा किया है। 

पीड़ित ने बताया कि पहले भी यह लोग हिंदुओं की शादियों का विरोध करते रहे हैं, जिससे गांव का माहौल तनाव पूर्ण हो गया था। अब फिर दुबारा से इस तरह की घटनाएं होने लगी हैं। गांव के लोगों ने बताया कि मुस्लिम समाज के लोग मस्जिद के सामने से बारात गुजारने का विरोध करते हैं। इसी वजह से शुकवार रात को जब बारात यहां से गुजरी तो उन्होंने बारात के ऊपर अंडे फेंकने शुरू कर दिए।

 हालांकि, मौके पर पहुंची पुलिस ने लोगों को समझा-बुझाकर शांत करा दिया। गांव के व्यक्ति राजवीर सिंह ने चार लोगों के खिलाफ नामजद तहरीर दी है। उन्होंने अंसार, शाहरुख, अमजद और सउआ के खिलाफ टप्पल थाने में तहरीर दी है। इसके बाद पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। टप्पल के गांव नूरपुर में पहले भी हिंदुओं की बारात का विरोध किया गया है। पिछले साल हिंदू समाज की बेटियों की बारात आने पर विशेष समुदाय के लोगों ने इसका विरोध किया था। 

उन्होंने मस्जिद के सामने से बारात चढ़ने से रोक दी थी, जिसके बाद जमकर मारपीट हुई थी। इसके बाद हिंदू समाज के कई लोगों ने अपने घरों के सामने ‘मकान बिकाऊ है’ के बोर्ड लगा दिए थे। जिसके बाद यह गांव चर्चा में आ गया था। अब एक बार फिर इसी तरह की घटना हुई है। घटना के बाद भाजपा के नेता गांव में पहुंचने शुरू हो गए हैं। टप्पल-जट्टारी में बीते दिनों अग्निपथ के विरोध में हिंसा हुई थी। अब बकरीद से पहले इस घटना के कारण अशांति फैल गई है। जिसके कारण पुलिस ने गांव में भारी संख्या में फोर्स तैनात कर दी है। 

इसके साथ ही आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की जा रही है। एसपी देहात पलाश बंसल ने बताया कि घटना के बाद चार लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस आरोपियों के खिलाफ जांच कर रही है और साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं। आरोपियों की पहचान की कोशिश की जा रही है।