संकट से जूझ रहे यस बैंक के जल्द सुधरेंगे दिन, दो बड़े इनवेस्टर्स की एंट्री

नई दिल्ली : नकदी संकट से जूझ रहे यस बैंक को जल्द ही राहत मिल सकती है। खबर है कि यस बैंक में दो बड़े इनवेस्टर्स की एंट्री हो सकती है। ईटी की खबर के मुताबिक, कार्लाइल और एडवेंट यस बैंक में 100 करोड़ रुपये में हिस्सेदारी खरीदने के बेहद करीब हैं। दरअसल, एडवेंट के नेतृत्व में हांगकांग के कार्लाइल के टॉप अधिकारियों ने इस सप्ताह यस बैंक के सीनियर मैनेजमेंट और प्राइवेट बैंक के सबसे बड़े शेयरधारक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) साथ ही रिजर्व बैंक (RBI) के साथ कई बैठकें की हैं। हालांकि, इस बारे में एडवेंट और कार्लाइल ने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया है। वहीं, यस बैंक और एसबीआई की तरफ से भी कोई अधिकारिक बयान नहीं है। 

शुरुआत में यस बैंक से लगभग 2.6 बिलियन वारंट जारी करने और कार्लाइल, एडवेंट को प्रीफेंशियल अलॉटमेंट के जरिए नए शेयर अलॉट किया जा सकता है। वहीं, दो PE फंड संचयी रूप से ₹14-15 प्रति शेयर पर ₹3,600-3,900 करोड़ निवेश करना चाहते हैं। यस बैंक मैक्सिमम 3.8 अरब वारंट जारी कर सकता है, ताकि एसबीआई की हिस्सेदारी 26% पर बनी रहे। 

रेगुलेटर-अप्रूवड रिवाइवल स्कीम के अनुसार, बैंक में एसबीआई की हिस्सेदारी मार्च 2023 से पहले 26% की सीमा से नीचे नहीं जा सकती है। वहीं, दूसरी तरफ जेसी फ्लावर्स के साथ डील पूरा होने और नए बोर्ड के सदस्यों के लिए शेयरधारक की मंजूरी मिलने के बाद लेन-देन होने की उम्मीद है। बता दें कि यस बैंक ने 48,000 करोड़ रुपये मूल्य की गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (NPA) को बेचने के इरादे से एक एसेट रिकंस्ट्रक्शन फर्म  कंपनी बनाने के लिए जेसी फ्लावर्स एआरसी के साथ करार किया है।

Yes Bank के शेयर गुरुवार को 5% से ज्यादा चढ़कर 14.30 रुपये पर बंद हुए हैं। कंपनी के शेयर पिछले पांच ट्रेडिंग सेशंस में 7.52% चढ़ा है। महीनेभर में इसमें लगभग 15% तक की तेजी देखने को मिली है। वहीं, इस साल YTD में यह शेयर 1.78% चढ़ा है।