ज्यादा सोचना बंद करते हैं!

हम सभी चीजों के बारे में अपने दिमाग में बहुत गहरे उतारते हैं, और हम सभी ने खुद को "क्या-अगर" के कभी न खत्म होने वाले सर्पिल में फंसा पाया है जो जीवन के साथ आते और जाते हैं।

क्या होगा अगर हम वास्तव में इसे बर्दाश्त नहीं कर सके? क्या होगा अगर वे हमें पसंद नहीं कर पाए? क्या होगा अगर यह बदलाव चीजों को और खराब कर दे?

यह सुनिश्चित करने के लिए पूछने के लिए महत्वपूर्ण प्रश्न हैं। लेकिन  सही मात्रा में सोचने और अधिक सोचने में अंतर है। हमारा दिमाग अद्भुत प्रोसेसर है जो प्रति दिन 35,000 बार सचेत और अवचेतन निर्णय लेता है। सावधानीपूर्वक विश्लेषण और जांच से कुछ विकल्पों में सुधार हो सकता है, लेकिन अगर हम हर संभावित परिणाम का विश्लेषण करने में फंस जाते हैं, तो उचित परिश्रम अत्यधिक चिंता और निर्णय पक्षाघात का कारण बन सकता है!

लेकिन, हमारा जिज्ञासु स्वभाव कब मददगार होता है और कब ज्यादा सोचना वास्तव में एक समस्या बन जाता है? और क्या वास्तव में हम इसे रोकने के लिए कुछ कर सकते हैं?

हमको कैसे पता चलेगा कि हम ज्यादा सोच रहे हैं?

अधिक सोचने के बारे में पहली बात यह है कि यह समस्या को हल करने जैसा अनुभव कर सकता है। लेकिन दोनों निश्चित रूप से अलग हैं।

"समस्या-समाधान तब होता है जब आप उत्तर खोजने और/या समाधान करने के इरादे से प्रश्न पूछते हैं "दूसरी ओर, ओवरथिंकिंग तब होती है जब आप किसी समस्या को हल करने के किसी वास्तविक इरादे के बिना संभावनाओं और नुकसान पर ध्यान केंद्रित करते हैं। वास्तव में, एक समस्या या संभावित समस्या वास्तव में मौजूद भी नहीं हो सकती है।

ज्यादा सोचना भी कभी-कभी आत्म-प्रतिबिंब की तरह महसूस कर सकता है। फिर से, दोनों अलग हैं।

"आत्म-प्रतिबिंब एक उच्च उद्देश्य में निहित एक आंतरिक रूप से जिज्ञासु प्रक्रिया है - चाहे वह एक व्यक्ति के रूप में विकसित हो या एक नया दृष्टिकोण प्राप्त करना हो। यदि आप किसी ऐसी चीज़ पर ध्यान दे रहे हैं जो आपको अपने बारे में पसंद नहीं है जिसे आप या तो बदल नहीं सकते हैं या सुधार करने का कोई इरादा नहीं है, यह आत्म-प्रतिबिंब नहीं है - यह अधिक सोच है, फिर भी, फिलहाल, ओवरथिंकिंग का पता लगाना मुश्किल हो सकता है।

जिन संकेतों पर आप अधिक विचार कर रहे हैं उनमें शामिल हैं:

पिछली घटनाओं या स्थितियों पर ध्यान देना!

दूसरे अनुमान लगाने वाले निर्णय जो आपने लिए हैं!

मन में अपनी गलतियों को दोहराना!

चुनौतीपूर्ण या असहज बातचीत को फिर से दोहराना

उन चीजों को ठीक करना जिन्हें आप नियंत्रित नहीं कर सकते, बदल सकते हैं या सुधार सकते हैं!

सबसे खराब स्थिति या परिणाम की कल्पना करना!

अपनी चिंताओं को वर्तमान क्षण से बाहर और एक अपरिवर्तनीय अतीत या अप्रत्याशित भविष्य में फॉलो करना!

सो जाने की कोशिश करते हुए "अपनी सूची चलाना"

सवाल करना लेकिन कभी निर्णय नहीं लेना या कार्रवाई नहीं करना

अधिक सोचने से आप पर क्या प्रभाव पड़ता है?

 "ओवरथिंकिंग आपके अनुभव को प्रभावित कर सकता है और आपके आस-पास की दुनिया के साथ जुड़ सकता है - आपको महत्वपूर्ण निर्णय लेने से रोकता है, आपको वर्तमान क्षण का आनंद लेने से रोकता है और आपको दैनिक तनाव से निपटने के लिए आवश्यक ऊर्जा की निकासी करता है।"

इसके अलावा, चाहे आप अतीत पर ध्यान दे रहे हों या भविष्य के बारे में भयावह सोच रहे हों, विचार पैटर्न जो रचनात्मक से अधिक विनाशकारी हैं, आपके मानसिक स्वास्थ्य और शारीरिक स्वास्थ्य दोनों पर भारी पड़ सकते हैं।

"अध्ययन से पता चलता है कि तनावपूर्ण घटनाओं पर चिंतन, समय के साथ, चिंता और अवसाद का कारण बन सकता हे।

 "मानसिक स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से, चिंता रोजमर्रा के तनावों से निपटने की आपकी क्षमता को प्रभावित कर सकती है, और अवसाद के परिणामस्वरूप उदासी, अकेलापन और खालीपन की भावना होती है।"

चिंता और अवसाद शारीरिक लक्षणों के साथ भी आते हैं, जिनमें शामिल हैं:

थकान, सिर दर्द, जी मिचलाना

,मुश्किल से ध्यान दे, नींद न आना

,भूख में बदलाव, "क्या अधिक है कि सामान्यीकृत चिंता विकार उच्च रक्तचाप और खराब हृदय स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ है, जबकि अवसाद आपके दिल के दौरे और आत्महत्या के जोखिम को बढ़ा सकता है!

ज्यादा सोचना थका देने वाला होता है।

जब आप ज्यादा सोचते हैं, तो विचार आपके सिर के चारों ओर चक्कर लगाते हैं और आप खुद को उल्टा फंसा हुआ पाते हैं, आगे बढ़ने में असमर्थ होते हैं। इसके अलावा, आप विचित्र विचारों के साथ आने लगते हैं जो एक-दूसरे का पूरी तरह से खंडन करते हैं।

"मैं इस नौकरी के साक्षात्कार के लिए बहुत उत्साहित हूं" "मुझे आश्चर्य है कि क्या वे मुझे पसंद करते हैं" में बदल जाते हैं और फिर "ओह, मैं बहुत बेवकूफ हूँ! मुझे ऐसा नहीं कहना चाहिए था! मुझे निश्चित रूप से कोई प्रस्ताव नहीं मिल रहा है। आप उन चीजों के लिए खुद को दोष देना शुरू कर देते हैं जो आपने नहीं की और उन परिदृश्यों के बारे में चिंता करना शुरू कर देते हैं जो हो भी सकते हैं और नहीं भी।

ओवरथिंकिंग केवल "किसी चीज के बारे में बहुत अधिक या बहुत लंबे समय तक सोचने" का कार्य है।

मैं भावना को जानती हूं, और यह ऊर्जा की निकासी है। वास्तव में, अध्ययनों से पता चला है कि अधिक सोचने से आपके तनाव का स्तर बढ़ जाता है, आपकी रचनात्मकता कम हो जाती है, आपके निर्णय पर बादल छा जाते हैं और निर्णय लेने की आपकी शक्ति समाप्त हो जाती है।

सौभाग्य से, ओवरथिंकिंग को संभालने के कुछ तरीके हैं।

ये रातोंरात नहीं होते हैं--कुछ को विकसित होने में समय लगेगा और कुछ को तुरंत लागू किया जा सकता है। लेकिन उन सभी को आपकी ओर से सचेत काम करने की आवश्यकता है।

ओवरथिंकिंग को रोकने में आपकी मदद करने के लिए यहां कुछ चरण दिए गए हैं।

हम जो चीज में नहीं कर सकते हैं और बार-बार हमसे कहते हैं कि हम नहीं कर सकते और फिर परेशान होते हैं, इसकी जगह खुद को यह कहना शुरू करें कि हम कर सकते हैं! जी हां अगर हम ज्यादा सोचने को कम नहीं कर सकते हैं तो सकारात्मक सोच सकते हैं!

जैसे हम अतीत के बारे में सोचने लगे या उस चीज के बारे में सोचने लगे जो बदल नहीं सकते , खुद को उसी समय डायवर्जन दीजिए, और स्वयं को समझाएं इसे सोचना  व्यर्थ है!

हम छोटी-छोटी चीजें भी कर सकते हैं, जैसे थोड़ी देर के लिए सांसों को रोकना, और फिर गहरी सांस को छोड़ना! योगा, एक्सरसाइज और खेलकूद इसके लिए बहुत उपयोगी है!

ज्यादा सोना त्याग कर कुछ अलग कार्य करें, अगर हम ज्यादा सोचते हैं तो कोशिश करें कि हम ऐसा कार्य करें जिसमें हम मानसिक और शारीरिक रूप से व्यस्त हो!

हम अपने आप को कोई भाषा भी सिखा सकते हैं, उदाहरण के लिए अगर आप अंग्रेजी सीखते हैं, अपने आप से कहते हैं कि हम अंग्रेजी में बोलेंगे नहीं सोचेंगे भी तो इससे हमारी सोच पर रोक लगेगी क्योंकि जब भी हम वाक्य को बनाएंगे तो पहले सोचेंगे और कम सोचेंगे!

हम जो भी देखते जा रहे हैं, सुनते जा रहे हैं, अक्सर हम उसी को सोचते हैं! कोशिश करें कि कुछ ऐसी चीजें देखे और सुने जो नकारात्मक ना हो और अगर ऐसा हुआ तो उससे दुगनी, अच्छा देखने और सुनने की कोशिश करें! ठीक वैसे ही जब आप एक समोसा खाने के बाद दो एप्पल को खाकर अपनी हेल्थ को मेंटेन करते हैं!

कोई भी चीज की सोचने की शुरुआत होते ही, सोचिए क्या हम इसका समाधान ढूंढ सकते हैं, हां अगर ऐसा है तो उसे सोचना थोड़ा जरूरी है!

हम अगर अपनी सोच पर ध्यान रखेंगे तो धीरे-धीरे कम, महत्वपूर्ण बातें और सकारात्मक सोचना शुरु कर देंगे!

हमें कार्य ज्यादा करना चाहिए, क्योंकि ज्यादा सोचने पर हम सिर्फ सोचते रह जाते हैं उस कार्य को नहीं करते और कोई कार्य बहुत ज्यादा सोच ले रहा है तो वह आपके लिए नहीं है! बहुत बार हम कुछ कर देते हैं उस पर सोचते नहीं क्योंकि वह हमें करना होता है!

तो आज से अभी से हम वह कार्य को ज्यादा सोचे समझे बिना करें जो स्वयं की प्रसन्नता और मानवता भलाई से जुड़ा हो! इस बात का जरूर ध्यान रखें हम किसी की उतनी ही मदद करें कि कल को हमें किसी की मदद मांगने की जरूरत ना हो, अगर बुद्धिमानी, स्वाभिमान एवं उदारता के साथ हम कोई कार्य करेंगे तो शायद हम अपनी सोच को एक विराम दे सके!

हमें अपनी बैटरी को बार-बार चार्ज करने की जरूरत है, बीच-बीच में नजर डालें कि हम किसी फिजूल बात पर सोचते ही तो नहीं जा रहे हैं और उसे वही विराम देने की कोशिश करें!

अधिक सोच पर रोक लगाएं,

कार्य को करके दिखाएं,

अवसाद, तनाव से दूर हो जाए,

स्वयं के मन में शांति लाएं!

डॉ. माध्वी बोरसे!

विकासवादी लेखिका!

राजस्थान! (रावतभाटा)