अवैध खनन रोकने को नदी बचाओ संघर्ष समिति का गठन

बांदा। केन नदी की जलधारा से प्रतिबंधित भारी मशीनों से लगातार हो रहें अवैध खनन पर पूर्णरूप से रोक लगाकर नदी के अस्तित्व को बचाने के लिए बैठकछात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष सुशील त्रिवेदी की अध्यक्षता में हुयी। केन नदी बचाओ संघर्ष समिति का गठन किया गया। उन्होंने बताया कि जल्द ही कार्यकारणी का गठन किया जाएगा।

छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष सुशील त्रिवेदी ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि प्रशासन कार्यवाही के नाम पर मात्र खानापूर्ति कर रहा है जबकि नदी की जलधारा से लगातार प्रतिबंधित मशीनों द्वारा रात दिन अवैध खनन किया जा रहा हैं।समिति का प्रतिनिधि मण्डल लखनऊ जाकर मुख्यमंत्री से मिलकर प्रतिबंधित मशीनों से पूर्णरूप से खनन बंद कराकर पूर्व की तरह मजदूरों से कार्य कराने के लिए मांगपत्र देगा जिससे आने वाली पीढ़ी के लिए बूंद-बंूद पानी को न तरसना पड़े।जिला अधिवक्ता सभा के महासचिव राकेश सिंह ने कहा कि यह लड़ाई किसी एक व्यक्ति की नहीं है हम सब को अपने भविष्य को ध्यान में रखकर केन नदी को बचाने के लिए जल योद्धा बनना होगा। जनआंदोलन की तैयारी में सभी लोग जुट जाएं वरना भविष्य में पानी के लिए युद्ध होगा। 

 रेलवे से रिटायर्ड स्टेशन मास्टर ब्रजबिहारी दीक्षित व अनिल द्विवेदी ने कहा कि जीवनदायनी केन नदी को यदि बचाया नहीं गया तो भविष्य में बहुत ही गंभीर परिणाम भुगतने पड़ेंगे बालू माफियाओ ने 50 फिट से अधिक गहराई तक केन नदी को खोद कर बालू खनन कर लिया है। अधिवक्ता विक्रांत सिंह, देवप्रसाद अवस्थी, आदित्य सिंह ने कहा कि जब तक प्रतिबंधित मशीनों से खनन बन्द नहीं हो जाता है तब तक आंदोलन चलता रहेगा और जन आंदोलन के लिए लोंगो को जागरूक किया जाएगा। अखंड विप्र एकता मंच के अध्यक्ष अभिषेक बाजपेई एवं सहकार भारती के जिलाध्यक्ष अनिल तिवारी ने कहा कि धुलाई सेंटरों व पानी के आर.ओ. प्लांटो का 60 प्रतिशत पानी बर्बाद होता है वहां रिचार्ज की व्यवस्था होनी चाहिए। 

इस अवसर पर शिवपूजन निषाद, कुलदीप पटेल,चुन्नू सिंह, राकेश गुप्ता, राजकुमार गुप्ता, साधू विश्वकर्मा, राहुल निगम, रमेश सिंह, सूरज विश्वकर्मा, नीरज द्विवेदी, धर्मेन्द्र तिवारी, अमित कुमार, सोनल जैन, प्रज्जवल नायक, गोविन्द मिश्रा, सुनील शुक्ला, कुलदीप त्रिवेदी,लक्ष्मीकांत शुक्ला, अभिषेक मिश्रा, सुमित यादव, दिलीप सिंह, मुनिराज सिंह, आशुतोष पांडेय, नंदकिशोर अवस्थी, सुरेन्द्र शुक्ला, उमाशंकर त्रिपाठी, शिवदत्त त्रिपाठी, ब्राम्हानंद पाण्डेय,धीरेन्द्र दीक्षित,राघवेंद्र सिंह आशीष तिवारी, रवि पाण्डेय, नीरज द्विवेदी, शुभम तिवारी आदि उपस्थित रहें।