मण्डलायुक्त एवं डीआईजी ने तहसील निजामाबाद में सम्पूर्ण समाधान दिवस में आमजन से सुनी उनकी समस्यायें

समस्याओं के गुणवत्तायुक्त निस्तारण के लिए गंभीरता जरूरी: मण्डलायुक्त

आज़मगढ़ : मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त तथा डीआईजी अखिलेश कुमार ने शनिवार को तहसील निजामाबाद में आयोजित सम्पूर्ण समाधान दिवस का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान दोनों अधिकारियों ने पूरी गंभीरता के साथ आमजन से उनकी समस्याओं को भी सुना तथा उसे समयबद्ध रूप से गुणवत्तायुक्त निस्तारण हेतु सम्बन्धित अधिकारियों को हस्तान्तरित किया। इस दौरान अधिकारियों के समक्ष कुल 173 प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किये गये, जिसमें राजस्व के 152 तथा विकास, पुलिस, विद्युत आदि विभागों से सम्बन्धित 21 मामले सम्मिलित थे। 

मौके पर अधिकारियों द्वारा 7 शिकायती प्रार्थना पत्रों का निस्तारण किया। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दिया कि सम्पूर्ण समाधान दिवस में जो भी शिकायतें आमजन से प्राप्त होती हैं उसका इस प्रकार से निस्तारण किया जाय कि उसी प्रकरण को पुनः प्रस्तुत करने की संभावना समाप्त हो जाय। 

उन्होंने यह भी कहा कि शिकायतों के स्थायी एवं गुणवत्तायुक्त निराकरण के लिए गंभीरता जरूरी है, इसलिए प्रस्तुत शिकायतों के निस्तारण के प्रति पूरी गंभीरता बरती जाय। 

सम्पूर्ण समाधान दिवस के औचक निरीक्षण में कुल 8 अधिकारी अनुपस्थित पाये गये, जिसमें सहायक अभियन्ता जल निगम, सहायक अभियन्ता नलकूप, खण्ड विकास अधिकारी तहबरपुर, एसएचओ अहरौला, सहायक विकास अधिकारी (पंचायत) रानी की सराय व मुहम्मदपुर तथा सहायक विकास अधिकारी (कृषि) रानी की सराय व तहबरपुर शामिल हैं। मण्डलायुक्त श्री पन्त ने अनुपस्थित अधिकारियों का एक दिन का वेतन बाधित करने तथा स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने हेतु निर्देशित किया।

मण्डलायुक्त विजय विश्वास पन्त ने जन सुनवाई के दौरान पाया कि आमजन द्वारा अधिकांश शिकायतें राजस्व विभाग से सम्बन्धित यथा पैमाइश, वरासत, चकमार्ग व अन्य सरकारी भूमि पर अवैध कब्जा आदि से सम्बन्धित होती हैं। इस सम्बन्ध में उन्होनंे तहसील के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को निर्देशित किया कि पूरी तन्मयता के साथ प्राथमिकता के आधार पर ऐसे प्रकरणों का निस्तारण किया जाये। 

डीआईजी अखिलेश कुमार ने पुलिस विभाग से सम्बन्धित मामलों की सुनवाई करते हुए थाना प्रभारियों को निर्देशित किया कि जहॉं कहीं भी विवाद की स्थिति उत्पन्न होती है तो शुरुआत में ही उसका ठोस निस्तारण कर दिया जाय, ताकि विवाद आगे चलकर शांति व्यवस्था में बाधक न बने। 

इसके साथ ही उन्होंने क्षेत्र में निरन्तर भ्रमणशील रहकर असामाजिक एवं शरारती तत्वों पर निरन्तर नजर रखते हुए उनकी गतिविधियों पर अंकुश लगाना सुनिश्चित करें। इस अवसर पर उपजिलाधिकारी निजामाबाद रवि कुमार, तहसीलदार राजू कुमार, खण्ड विकास अधिकारी, थाना प्रभारी सहित अन्य तहसील स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।