रुपए को रसातल की ओर पहुंचाने के लिए लबार सरकार माफी मांगे - रामगोविंद चौधरी

नहीं सफल होगी तानाशाह, जुमलाजीवी आदि शब्दों का प्रयोग रूकवाकर सच्चाई पर पर्दा डालने की कोशिश - पूर्व नेता प्रतिपक्ष, उत्तर प्रदेश

बलिया। पूर्व नेता प्रतिपक्ष, उत्तर प्रदेश  रामगोविंद चौधरी ने कहा है कि भारतीय रुपए को रसातल की ओर पहुंचाने वाली लबार  सरकार रुपए की वर्तमान बदहाल स्थिति के लिए देश से माफी मांगे और देश पर बढ़े कर्जे को लेकर स्पष्टीकरण दे। सोमवार को अपने आवास पर मिलने आए समाजवादी साथियों को सम्बोधित करते हुए पूर्व नेता प्रतिपक्ष, उत्तर प्रदेश रामगोविंद चौधरी ने कहा है कि रुपए को रसातल की ओर पहुंचाने वाली लबार सरकार तानाशाह, जुमलाजीवी, जयचंद, अंट-शंट, करप्ट, नौटंकी, ढिंढोरा पीटना, निकम्मा जैसे शब्दों का प्रयोग   रूकवाकर सच्चाई पर पर्दा डालने की कोशिश कर रही है। उसे इस कोशिश में सफलता नहीं हासिल होने वाली है। उन्होंने कहा है कि जनता इन शब्दों का विकल्प ढूढ़ लेगी जो उपरोक्त शब्दो की तुलना में और अधिक चुभने वाले होंगे।

 रामगोविंद चौधरी ने कहा है कि इसे लेकर लोग अभी से तानाशाह की जगह थानाशाह, लाठीशाह बोलने लगे हैं। जुमलजीवी की जगह लबार बोलने लगे। निक्कमी सरकार की जगह भारतीय रुपए को रसातल की ओर पहुंचाने वाली लबार सरकार बोलने लगे हैं। उन्होंने कहा है कि जैसे जैसे आम लोगों की आय घटेगी और अडानी, अम्बानी के नेतृत्व में कुछ खास लोगों की आय बढ़ेगी, ये शब्द और तीखे होंगे।

पूर्व नेता प्रतिपक्ष,रामगोविंद चौधरी ने कहा है कि यदि देश की आर्थिक स्थिति लंका जैसी होगी तो लोगों की प्रतिक्रिया भी लंका जैसी होगी। इसलिए भारतीय रुपए को रसातल की ओर पहुंचाने वाली लबार सरकार को समय रहते कोशिश करनी चाहिए कि यह महान देश लंका जैसी आर्थिक स्थिति में न पहुँचे। उन्होंने कहा है कि इसके लिए सच छुपाने की जगह रुपए को रसातल की ओर पहुंचाने वाली लबार सरकार को लोगों को बताना होगा कि कुछ पूंजीपति मित्रों को कमवाने, बोगस कम्पनियों के नाम पर कर्ज दिलवाने औऱ फिर राइटऑफ के माध्यम से बैकों को लुटवाने की वजह से देश और रुपए की यह दुर्गति हुई है। 

इसके लिए इस लबार सरकार को देश से सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी होगी और जिन लोगों को कमवाया है, जिनके राइट ऑफ देकर और जिनको कर्जा दिलवाकर बैंकों को कंगाल बनाया है, उनकी सभी तरह की सम्पतियाँ तत्काल जप्त कर वसूली करनी होगी, ऐसे लोगों को राष्ट्रद्रोही घोषित करना होगा, इनके खिलाफ कठोरतम करवाई करनी होगी ताकि लोगों को  विश्वास हो कि रुपए को रसातल की ओर पहुंचाने वाली लबार सरकार अब कुछ खास के लिए नहीं, सम्पूर्ण देश के लिए काम करने वाली है। लेकिन दुर्भाग्य हैं कि पूजीपतियो शुभचिंतक वर्तमान सरकार देश के आम लोगो के हित हेतु ऐसा नहीं करेगी।