नवागत पुलिस अधीक्षक सोमेन वर्मा के प्रति बढ़ा जनता का विश्वास जनता दरबार में आ रही शिकायतों को मिल रही है प्राथमिकता

ब्यूरो प्रमुख अंकित राय

सुलतानपुर। बदलाव की हवा वैसे तो दूर दराज तक महसूस की जाती है, मगर उसके आसपास उसकी महक ज्यादा महसूस की जाती है। यहीं कारण है कि पिछले कुछ वर्षों से महज रस्मोअदायगी की बानगी बनता जा पुलिस अधीक्षक का जनता दरबार अब एक बार गुलजार है।

 लंबी-लंबी कतार और कतार में महिलाओं, बच्चियों, बच्चों व बुजुर्गो तक की संख्या अधिक होना इस बात का संकेत है कि एक बार फिर पुलिस के न्याय पर लोगों का भरोसा जग रहा है। साथ ही पुलिस के बदलते चेहरे की झलक प्रस्तुत करता है। नये पुलिस अधीक्षक सोमेन वर्मा इस विश्वास को कायम करने की हरसंभव कोशिश में जुटे हुए हैं। 

हर सप्ताह थानों में जनता दरबार और प्रतिदिन स्वयं सभी व्यस्तताओं के बीच जनता के दरबार में उपस्थित रहकर उनकी शिकायतों को सुनना व उसका निष्पादन करना इसकी कड़ी में शामिल हैं। अब पुलिस अधीक्षक का जनता दरबार कुछ बदला-बदला सा नजर आया। शिकायतकर्ताओं से सिर्फ आवेदन नहीं लिए जा रहे थे बल्कि उन्हें सम्मानपूर्वक बैठाकर उनकी शिकायतें सुनी जा रही थी और हरेक मामले में संबंधित पुलिस अधिकारियों को तलब कर उसके निष्पादन की दिशा में जवाबदेह बनाने की भी कोशिश की जा रही थी।

 जनता दरबार में आए आम व खास सभी प्रकार के लोगों की शिकायत आसानी से सुनी जा सके इसलिए पुलिस अधीक्षक सोमेन वर्मा ने अपने साथ दो और वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को लगाया था। नगर पुलिस उपाधीक्षक व प्रशिक्षु पुलिस उपाधीक्षक शिवम मिश्रा भी हरेक से पूरी केस हिस्ट्री समझते नजर आ रहे थे। पुलिस अधीक्षक का मानना था कि अधिकांश लोग व्यवस्था से अत्यंत पीड़ित होने के बाद ही वरिष्ठ अधिकारियों से शिकायत करने पहुंचता है। ऐसे मे उन्हें संवेदनाओं के साथ न्याय की अधिक जरूरत होती है। इसलिए पुलिस को उस अनुरूप ढालने की कोशिश हो रही है।

पुलिस अधीक्षक के जनता दरबार में लगभग दर्जनों से अधिक लोगों ने अपनी शिकायतें सुनाई। हर शिकायती पत्र पर प्राथमिकता से अमल करते हुए उसके निस्तारण हेतु संबंधित को आवश्यक दिशा निर्देश पुलिस अधीक्षक द्वारा दिया गया है।