श्रीलंकाई राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण समारोह में बिजली गुल, सीआईडी करेगी जांच

कोलंबो : श्रीलंकाई संसद परिसर में बिजली गुल होने से राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे के शपथ ग्रहण समारोह का सीधा प्रसारण बंद हो गया। एक खबर में बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी गई है। खबर के अनुसार अधिकारियों ने इस घटना की आपराधिक जांच विभाग (सीआईडी) से जांच कराने का फैसला किया है। रानिल विक्रमसिंघे ने बृहस्पतिवार को श्रीलंका के आठवें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ ली। 

प्रधान न्यायाधीश जयंत जयसूर्या ने संसद भवन परिसर में 73 वर्षीय विक्रमसिंघे को राष्ट्रपति पद की शपथ दिलाई। उनके सामने देश को आर्थिक संकट से बाहर निकालने तथा महीनों से चल रहे व्यापक प्रदर्शनों के बाद कानून एवं व्यवस्था बहाल करने की चुनौती है। वेब पोर्टल ‘कोलंबो पेज’ की खबर के अनुसार नवनिर्वाचित राष्ट्रपति विक्रमसिंघे के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान संसद परिसर में बृहस्पतिवार को बिजली गुल होने की जांच सीआईडी करेगी। 

विक्रमसिंघे के शपथ ग्रहण समारोह का सरकार द्वारा संचालित चौनल ‘रूपवाहिनी’ द्वारा सीधा प्रसारण किया जाना था और अन्य टेलीविजन चौनलों द्वारा भी इसका एक साथ प्रसारण किया जाना था। खबर के अनुसार हालांकि राष्ट्रपति के रेड कार्पेट पर संसद परिसर में प्रवेश करने के बाद सीधा प्रसारण बंद हो गया। 

बाद में यह बताया गया कि संसद परिसर में बिजली गुल होने के कारण सीधा प्रसारण रोक दिया गया था। संसद परिसर में बिजली गुल होने की स्थिति में, जनरेटर आमतौर पर दो मिनट के भीतर स्वचालित रूप से चालू हो जाते हैं। यह बताया गया है कि राष्ट्रपति के शपथ ग्रहण के समय लगभग 10 मिनट के लिए बिजली बंद हुई थी। इस वजह से टीवी चौनल शपथ ग्रहण समारोह का प्रसारण नहीं कर पाए।