नूतन जागरण है हम

पर गर्व होना चाहिए।

गर्व से कहिए हम नारी हैं।

न कमजोर न बेचारी है

पर्वत का सीना चीर दें

नदियां का रुख मोड़ दे

हम में निहित संपूर्ण

समझदारी है अपने

पक्ष को आत्मविश्वास

से रखने वाली नारी हैं।

आए संकट में योद्धा बनकर

सिंह सी भीषण दहाड़ कर,

शत्रु को रास्ते में पछाड़ कर,

ओजमयी कल्याणकारी है।

गर्व से कहो हम नारी है।

निष्प्राण उदासीन भावो में

प्राण भरने वाली,

रिश्तों मेंसूझबूझ और

समझ रखने वाली

हर दृष्टि से परोपकारी हैं।

गर्व से कहो हम नारी हैं।

उपक्षित नहीं किसी और से

आशा की किरण है हम।

विश्व को स्वरूप देने वाली

नूतन जागरण है हम।

सर्वधर्म समभाव से पुजारी हैं।

गर्व से कहो हम नारी हैं।


प्रणाली श्रीवास्तव,

शहडोल,मध्य प्रदेश