विश्व शतरंज दिवस पर आयोजित हुई शतरंज प्रतियोगिता

ब्यूरो , सीतापुर : जनपद सीतापुर के महमूदाबाद में विश्व शतरंज दिवस पर आयोजित हुई शतरंज प्रतियोगिता । और वही खेलों से हमारा शारीरिक और मानसिक विकास होता है। खेलों से शरीर में एक नई ऊर्जा का संचार होता है। खेलों से जहां शरीर स्वस्थ्य व स्फूर्तिवान बनता है वहीं इससे सहज हार-जीत स्वीकार करने की भावना बढ़ती है। खेलों के माध्यम से आपसी सौहार्द भी बढ़ता है। 

खेलों से हमें संगठित होकर किसी काम को करने की प्रेरणा मिलती है। शतरंज एक ऐसा खेल है जिससे मस्तिष्क का विकास होता है। यह बात उपजिलाधिकारी मिथलेश त्रिपाठी ने विश्व शतरंज दिवस पर आयोजित शतरंज प्रतियोगिता के मौके पर सीता ग्रुप आफ एजूकेशन की श्यामदासपुर में संचालित इंगलिश मीडियम ब्रांच के विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुये कही। 

उन्होंने विद्यार्थि़यों से खेल भावना के अनुरूप पारस्परिक सद्भाव और राष्ट्रीय एकता को मजबूत करने के लिए काम करने का आवाह्न किया। विश्व शतरंज दिवस के अवसर पर शतरंज प्रतियोगिता का शुभारम्भ एसडीएम न्यायिक अभिनव कुमार यादव ने शतरंज खेल कर किया। शतरंज प्रतियोगिता में 55 विद्यार्थियों के समूह ने सेमीफाइनल राउंड में प्रतिभाग किया। 

जिसमें से डेढ़ दर्जन विद्यार्थियों को फाइनल राउंड के लिये चुना गया। विजेता टीमों के मध्य गुरुवार को फाइनल प्रतियोगिता होगी। इस अवसर पर सीता ग्रुप आफ एजूकेशन के चेयरमैन आरके वाजपेयी, डिप्टी मैनेजर आंजनेय आशीष, वागीश दिनकर, उप प्रधानाचार्य आरजे वर्मा, आदर्श जायसवाल ने आये अतिथियों का स्वागत माल्यार्पण व स्मृतिचिन्ह देकर किया। इस मौके पर वरिष्ठ अधिवक्ता सरोज शुक्ल, कृतार्थ मिश्र, खेल शिक्षक रवि शुक्ल, शशांक शुक्ल सहित अन्य शिक्षक व विद्यार्थी मौजूद रहे।