प्राचीन माता काली मंदिर के खिलाफ षडयंत्र बर्दाश्त नहीं: राहुल मिश्रा


सहारनपुर : महंत राहुल मिश्रा ने कहा कि एक तरफ तो सरकार हिन्दू देवी-देवताओं के मंदिरों की सुरक्षा व उन्हें बचाने का हरसंभव प्रयास कर रही है वहीं कुछ लोग अपनी ओछी मानसिकता के चलते हिन्दुओं की आस्था के केन्द्र मंदिरों को ध्वस्त करने की योजना बना रहे हैं जिसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जायेगा इसके लिए चाहे उन्हें आंदोलन ही क्यों न करना पड़े वह इससे पीछे नहीं हटेंगे। 

राकेश टाकीज के निकट गौशाला एवं प्राचीन काली माता मंदिर निकट गौशाला महंत राहुल मिश्रा ने आज पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि उनके पूर्वजों द्वारा रिजक दास महाराज को लगभग 30 वर्ष उक्त भूमि दान दी थी जिसमें दानदाता द्रोपदी मिश्रा की समाधी एवं कमरा अब तक उनके नाम पर चला आ रहा है। संज्ञान में आया है कि नगर निगम व प्रशासन उक्त गौशाला को अन्यत्र शिफ्ट किया जाये। उन्होंने मांग की कि यदि गौशाला को शिफ्ट किया जा रहा है कि बराबर में बने हिन्दु आस्था के केन्द्र माता काली मंदिर को भी निगम की खाली पड़ी भूमि में शिफ्ट किया जाये ताकि  श्रद्धालुओं की आस्था बनी रहे। 

उन्होंने बताया कि गौशाला के निकट उत्तर दिशा में 8/8 का काली माता मंदिर एवं शिव मंदिर स्थित है जिसका वाटर टैक्स नगर निगम की रसीद एवं बिजली का बिल भुगतान उनके नाम आ रहा है। मंदिर की जमीन लिखित रूप में वेद प्रकाश निवासी माधव नगर म.नं 6/1249 से खरीद गयी थी निगम के द्वारा सरकारी प्रस्ताव पुल एवं सड़क बनाने व उक्त गौशाला को अन्यत्र शिफ्ट करने का प्रस्ताव है। 

महंत श्री मिश्रा ने जिलाधिकारी व नगरायुक्त से मांग की कि जिस प्रकार गौशाला को शिफ्ट किया जा रहा है, उसी प्रकार उन्हें भी 8/8 एक मंदिर 10/10 का कमरा बनाकर स्व.द्रोपदी मिश्रा के वंशज राहुल मिश्रा को भी दिया जाये क्योंकि वह काफी समय से मंदिर में पूजा पाठ करते आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस मंदिर से लोगों की आस्था जुड़ी हुई है। 

उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भी इस बाबत पत्र लिखकर अवगत कराया है तथा उनसे मांग की गयी है कि जिस प्रकार उनके द्वारा मंदिरों को बचाने का संकल्प लिया गया है, उसी तर्ज पर उक्त काली माता मंदिर को बचाया जाये तथा निगम की खाली पड़ी भूमि में शिफ्ट कर दिया जाये ताकि लोगों की आस्था मंदिर में बनी रहे। उन्होंने निगम व सरकार से मांग की कि यदि सरकार व निगम की ऐसी कोई योजना है तो सरकार अलग से मंदिर की जगह मुहैया कराये। निगम के पास काफी जमीन खाली है। उन्होंने मांग की कि मंदिर एवं कमरा न तोड़ जाये। पत्रकार वार्ता में सुशील कुमार, शाहिस्ता खान, पूनम, छोटू, सचिन धीमान आदि शामिल रहे।