संयुक्त किसान मोर्चा ने विद्युत विभाग के संबंध में जिलाधिकारी को संबोधित ज्ञापन सौंपा

ब्यूरो , सीतापुर : जनपद सीतापुर में संयुक्त किसान मोर्चा सीतापुर ने समूचे जनपद में विद्युत विभाग द्वारा आपूर्ति में की जा रही घोर लापरवाही के संबंध में जिलाधिकारी को संबोधित ज्ञापन सौंपा। और मोर्चा संयोजक पिंदर सिंह सिद्धू ने कहा कि एक तरफ मुख्यमंत्री देहात क्षेत्र में किसानों के लिए चौबीस में अठारह घंटे विद्युत आपूर्ति की घोषणा कर रहे हैं। और दूसरी तरफ जिम्मेदार उनके आदेशों की अवहेलना कर तीन चार घंटे की आपूर्ति दस,पांच मिनटों के टुकड़ों में बांटकर दे रहे है।

 तथा किसानों को इस समस्या के कारण आए दिन परेशानियों का सामना करना पड़ता है। यह हम सभी किसानों का दुर्भाग्य है कि घोषणाएं तो होती है परंतु उनका अनुपालन धरातल पर नहीं किया जाता है ।  किसान मंच प्रदेश प्रभारी शिव प्रकाश सिंह ने कहा कि दुख इस बात का है समस्या का निराकरण तो दूर की बात है।  जिम्मेदार काल उठाना भी उचित नहीं समझते,जब भी काल की जाती है, हमेशा ही दूसरी तरफ से व्यस्त हैं की आवाज आती है।  समूचे जनपद में देहात क्षेत्र से लेकर शहरी क्षेत्र का आम जनमानस इस समस्या से पीड़ित है। 

विगत समय झरेखापुर उपकेन्द्र के अंतर्गत तेंइतिस हजार विद्युत लाइन की जर्जरता को लेकर किसान मंच द्वारा आंदोलन किया गया था!विभाग द्वारा स्टीमेट तो बनाया गया परंतु क्रियान्वयन आज तक नहीं हुआ। क्षेत्र में आए दिन वर्षों पुरानी विद्युत लाइन के कारण सप्लाई में अवरोध तो रहता ही है, साथ ही खेतों में नुकसान के साथ दर्जनों लोगों की असमय ही जीवन लीला समाप्त हो चुकी है। सिख संगठन के जिला अध्यक्ष गुरपाल सिंह ने रामकोट उपकेंद्र सहित जनपद में विद्युत विभाग की लापरवाही का हवाला देते हुए कहा कि अविलंब इन समस्याओं का निराकरण नहीं किया गया फिर ज्ञापन में दी गई ।

 चेतावनी के अनुसार ग्यारह जून को समूचे जनपद से इकठ्ठा होकर किसानों सहित समस्या से ग्रसित साथियों द्वारा विद्युत विभाग कार्यालय का घेराव कर अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया जाएगा। जिसकी समस्त जिम्मेदारी शासन और प्रशासन की होगी! ज्ञापन देने वाले साथियों में बलजीत सिंह, रितेश तिवारी, हरप्रीत सिंह, राहुल सिंह, गुरविंदर सिंह, अशोक सिंह,महताब खान,कबीर खान,सबील,लखवीर सिंह,मदन लाल, लाडी, मोना, आलोक वर्मा, सालिक राम, उपदेश सिंह, अंकित सिंह और गोलू सहित किसान साथी उपस्थित थे।