पुराने धर्मशाले पर अवैध कब्जे का वकीलों ने लगाया आरोप, एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

लालगंज, प्रतापगढ़। नगर में पुराने धर्मशाले पर अवैध कब्जे का आरोप लगाते हुए वकीलों ने गुरूवार को एसडीएम को ज्ञापन सौंपकर विरोध जताया है। वकीलों ने सौंपे गये ज्ञापन में एसडीएम से कहा कि लालगंज नगर पंचायत की बाजार में दीवानी गेट के समीप पुराने शिव मंदिर के पास धर्मशाले पर पूंजीपति भूमाफिया ने सालों से कब्जा कर रखा है। कई बार धर्मशाले से अवैध कब्जा हटवाये जाने एवं वहां निर्मित कुंए को सार्वजनिक उपयोग में लिये जाने को लेकर अफसरों से शिकायत की गयी है। इसके बावजूद भी वकीलों का आरोप है कि नगर पंचायत और कोतवाली पुलिस भूमाफिया के दबाव में धर्मशाले से अवैध कब्जे एवं उसके सामने किये गये अतिक्रमण को लेकर कार्रवाई नही कर रही है। संयुक्त अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष अनिल त्रिपाठी महेश ने कहा कि इस प्राचीन धर्मशाले को जिस तरह से व्यवसायिक केंद्र बनाया गया है और प्रशासन खामोश है उसे लेकर अब वकील भी आंदोलन शुरू किये जाने के लिए विवश होंगे। ज्ञापन मे कहा गया है कि पुराने धर्मशाले में बाजार के अलावा आस-पास के कई गांवों के लोग विश्राम किया करते थे और भजन संकीर्तन के साथ गरीब तबके के लोगों के द्वारा शादी विवाह का भी निःशुल्क आयोजन होता रहा है। 

वकीलों ने प्रशासन से धर्मशाला क्षेत्र की कुर्की कर इसे प्रशासनिक कब्जे मे फौरन लिये जाने की भी मांग उठाई है। एसडीएम अरूण सिंह ने वकीलों को समुचित कार्रवाई का भरोसा दिलाकर शांत कराया। ज्ञापनदाताओं में महामंत्री शेषनाथ तिवारी, पूर्व अध्यक्ष राजेन्द्र मिश्र, पूर्व अध्यक्ष टीपी यादव, पूर्व अध्यक्ष राममोहन सिंह, हेमन्त पाण्डेय, विपिन शुक्ल, संतोष पाण्डेय, कुलदीप तिवारी, अखिलेश सिंह, संजय सिंह आदि रहे।