सुप्रीम कोर्ट ने वाराणसी कोर्ट की कार्यवाही पर लगायी रोक

आज उच्चतम न्यायालय में होगी सुनवाई

लखनऊ। सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को ज्ञानवापी मस्जिद मामले में सुनवाई हुई।चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ के समक्ष मामले को मेंशन किया गया। सुनवाई के दौरान हिंदू पक्ष कि ओर से वकील विष्णु शंकर जैन ने मामले को टालने की मांग की।जैन ने कहा कि वरिष्ठ वकील हरीशंकर जैन कि तबीयत खराब है. इस बात का ख्याल रखते हुए मामले को टाल दिया जाए। हिंदू पक्ष की इस मांग का मुस्लिम पक्ष ने विरोध किया। मुस्लिम पक्ष के वकील हुफैजा अहमदी ने मामले को नहीं टालने की मांग की। सुप्रीम कोर्ट ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद कल तक के लिए वाराणसी कोर्ट की कार्यवाही पर रोक लगा दी है।अब इस मामले पर कल सुनवाई होगी।

सुनवाई के दौरान वकील विष्णु जैन ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि इस मामले पर कल सुनवाई कर लें, क्योंकि वरिष्ठ वकील हरीशंकर जैन को अस्थमैटिक अटैक आया है।इस पर मुस्लिम पक्ष ने कहा कि हमें आज ही सुना जाए।मुस्लिम पक्ष के वकील हुफैजा अहमदी ने कहा कि निचली अदालत में दीवार को गिराने का आवेदन किया गया है। ऐसे में आज सुनवाई की जाए। इस पर चीफ जस्टिस ने कहा कि हम इस मामले पर कल सुनवाई करते हैं,लेकिन कल पहले ही 50 मामले लगे हैं। मुझे अपने साथी जजों से बात करने दीजिए। 

चीफ जस्टिस के कल सुनवाई करने के फैसले पर वकील हुजैफा ने कहा कि अन्य मस्जिदों को भी सील करने के लिए आवेदन दिए जा रहे हैं।चीफ जस्टिस ने कहा कि हम कल इस पर सुनवाई करते हैं। चीफ जस्टिस ने अपने आदेश में कहा, मुस्लिम पक्ष ने आशंका जताई कि निचली अदालत में मामला चल रहा है, लेकिन जब तक सुप्रीम कोर्ट सुनवाई न कर ले,तब तक निचली अदालत सुनवाई न करे।सुप्रीम कोर्ट ने इसके बाद कल तक के लिए वाराणसी कोर्ट की कार्यवाही पर रोक लगा दी। शीर्ष अदालत अब कल शुक्रवार को तीन बजे ज्ञानवापी मामले पर सुनवाई करेगी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि तत्काल निचली अदालत के वकीलों और संबंधित अधिकारियों को कार्यवाही नहीं करने के बारे में सूचित कर दिया जाए। 

काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का वीडियोग्राफिक सर्वे करने के लिए वाराणसी एक अदालत द्वारा नियुक्त आयोग ने गुरुवार को अपनी रिपोर्ट सौंप दी।मामले में हिंदू पक्ष का प्रतिनिधित्व कर रहे वकील मदन मोहन यादव ने कहा कि विशेष अधिवक्ता आयुक्त विशाल सिंह ने 14, 15 और 16 मई को किए गए सर्वे कार्य की रिपोर्ट डिस्ट्रिक्ट सिविल जज रवि कुमार दिवाकर की अदालत में पेश की। मोहन यादव ने बताया कि अजय मिश्रा ने भी बुधवार देर शाम 6 और 7 मई को उनके द्वारा किए गए सर्वे की रिपोर्ट को जमा कर दिया। उन्हें अदालत ने अधिवक्ता आयुक्त के पद से हटा दिया था।मंगलवार को मिश्रा को हटाने के बाद कोर्ट ने विशाल सिंह को विशेष अधिवक्ता आयुक्त और अजय प्रताप सिंह को सहायक विशेष अधिवक्ता आयुक्त नियुक्त किया था।