प्रति परीक्षार्थीयों से ढाई से साढ़े तीन हजार वसूलने का लगाया आरोप, प्रधानाचार्य ने आरोप को बताया निराधार

मऊ जनपद के अमिला बाबा थानीदास इंटर कालेज सोनाडीह (अमिला) में शनिवार को अजीबो-गरीब स्थिति देखने को मिली। डीएलएड (बीटीसी) के 2018 बैच के तृतीय समेस्टर के परीक्षार्थियों ने इसलिये प्रदर्शन किया कि उन्हें नकल नहीं कराई गई। गेट के बाहर नारेबाजी कर रहे परीक्षार्थियों ने नकल के लिये इसलिये प्रदर्शन किये जाने की बात कही कि उनसे इसके नाम पर ढाई से साढ़े तीन हजार प्रति छात्र वसूली की गई है। परीक्षार्थी नकल न होने पर वसूले गये सुविधा शुल्क को वापस करने की मांग कर रहे थे। उधर कालेज के प्रधानाचार्य ने आरोप को बेबुनियाद बताया। 

रकम वापस हो या परीक्षा निरस्त हो 

प्रदर्शनकारियों में शामिल परीक्षार्थी नेहा चौधरी, चंदा कुमारी, समीना फिरदौस, रंजना कुमारी, अमृता, नीतू कुमारी, रंजना राजभर ने कहा कि हम लोगों से 25 सौ से 35 सौ तक विद्यालय में इंट्री से पहले ही गेट पर वसूला गया। बगैर रकम दिये किसी को अंदर नहीं आने दिया गया। इस रकम के बदले परीक्षा के दौरान नकल की सुविधा प्रदान करने की बात कही गई। परीक्षार्थियों ने कहा कि हमारा पैसा वापस किया जाए या फिर परीक्षा को निरस्त किया जाए। 

लखनऊ व प्रयागराज के भी हैं परीक्षार्थी 

इस परीक्षा मे लखनऊ, वाराणसी, प्रयागराज, गाजीपुर, मऊ, बलिया के परीक्षार्थी शामिल हैं। प्रथम पाली में 45, द्वितीय पाली में 170 व तृतीय पाली में 38 परीक्षार्थियों की परीक्षा चल रही है। परीक्षार्थियों के आरोप के बाबत परीक्षा के पर्यवेक्षक बनाये गये राजकीय विद्यालय के मुन्ना प्रसाद व डायट के अंशुमान सिंह से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इस संबंध में तो यहां के प्रधानाचार्य ही बात सकते हैं। विद्यालय के प्रधानाचार्य डा. संजय भारती से मीडियाकर्मियों ने पूछा तो उन्होंने सुविधा शुल्क वसूली के आरोप को बेबुनियाद बताया। कहा कि शुचितापूर्ण ढंग से हो रही परीक्षा से नाराज परीक्षार्थी अनाप-शनाप आरोप लगा रहे हैं।