सुकृत्य की अनुमोदना से श्रीवृद्धि करता है समाज:आचार्यश्री

आचार्यश्री कवीन्द्रसागर सूरिश्वरजी मसा का हुआ बाड़मेर नगर प्रवेश

शहर भर में हुआ भव्य स्वागत-सत्कार, महोत्सव का आगाज 04 मई से

बाड़मेर । जैन श्रीसंघ, बाड़मेर एवं श्री भगवान महावीर जिन मन्दिर प्रतिष्ठा महोत्सव समिति की ओर से आगामी 04 मई से 09 मई 2022 तक महावीर वाटिका लंगेरा रोड़ के पावन प्रांगण में होने वाली भव्य व विराट अंजनशलाका एवं प्रतिष्ठा महोत्सव में पावन निश्रा को लेकर रविवार को 21वें वर्षीतप के तपस्वी रत्न सूरिमंत्र पंचप्रस्थानसाधक परम पूज्य आचार्य भगवन्त श्री कवीन्द्रसागर सूरिश्वरजी मसा आदि ठाणा बाड़मेर नगर में ढ़ोल-ढ़माकों व गाजे-बाजे के साथ शोभायात्रा से हर्षाेल्लास पूर्वक मंगल प्रवेश सम्पन्न हुआ ।

मंगल प्रवेश शोभायात्रा प्रभारी मुकेश बोहरा अमन ने बताया कि 21वें वर्षीतप के तपस्वी रत्न सूरिमंत्र पंचप्रस्थानसाधक परम पूज्य आचार्य भगवन्त श्री कवीन्द्रसागर सूरिश्वरजी मसा आदि ठाणा का बाड़मेर नगर प्रवेश का स्वागत सोमैया रविवार को श्री महावीर स्वामी जिनालय महावीर सर्किल जूना केराडू मार्ग बाड़मेर से प्रारम्भ होकर शहर के मुख्य मार्गाें जूना केराडू मार्ग, चिन्दड़ियों की जाळ, विद्यापीठ, महाबार रोड़, करमूजी की गली, दरियागंज, जैन न्याति नोहरे से होते हुए श्री गुणसागर सूरि साधना भवन पहुंचा। जहां धर्मसभा का आयोजन हुआ। वहीं गुरूदेवश्री के बाड़मेर आगमन पर जैन श्रीसंघ, बाड़मेर की ओर से शोभायात्रा मार्ग की प्रोलों, होर्डिंग, पताकाओं आदि से भव्य व सुन्दर सजावट की गई है ।

धर्मसभा में परम पूज्य आचार्य भगवन्त श्री कवीन्द्रसागर सूरिश्वरजी मसा ने श्रावक-श्राविकाओं को कहा कि समाज में अच्छे कार्याें की अुनमोदना से ही श्रीवृद्धि व प्रगति होती है । गुरूदेवश्री ने कहा कि श्री महावीर जिन मन्दिर की अंजनशलाका एवं प्रतिष्ठा महोत्सव में सकल श्रीसंघ को दिल खोलकर भाग लेना है तथा भगवान महावीर के शासन की जय-जयकार हो, शोभा बढ़े ऐसा तन, मन और धन से योगदान करना है । धर्मसभा को गुरूदेवश्री के शिष्यरत्न मुनिराज कल्पतरू सगार जी मसा ने भी प्रवचन देते हुए जीवन में मृत्यु के भय को समाप्त कर धर्म के पथ पर आगे बढ़ने की बात कही ।  

  जैन श्रीसंघ के अध्यक्ष व महोत्सव संयोजक प्रकाशचन्द वडेरा एडवोकेट ने बताया कि महावीर वाटिका लंगेरा रोड़ में होने वाली प्रतिष्ठा के कार्यक्रम 04 मई से प्रारम्भ होंगें । जिसमें अंवति तीर्थाेद्धारक, खरतरगच्छाधिपति परम पूज्य आचार्य भगवन्त श्री जिनमणिप्रभसूरीश्वरजी मसा, वर्षीतप के तपस्वी रत्न, परम पूज्य आचार्य भगवन्त गुरूदेवश्री कवीन्द्रसागर सूरीश्वरजी मसा व बह्रमसर तीर्थाेद्धारक परम पूज्य आचार्य भगवन्त श्री जिनमनोज्ञसूरीश्वरजी मसा आदि ठाणा की पावन व मंगलमय निश्रा में श्री महावीर स्वामी जिन मन्दिर अंजनशलाका व प्रतिष्ठा का ऐतिहासिक व अनूठा महोत्सव सम्पन्न होगा । श्रीसंघ, बाड़मेर के समस्त कार्यक्रमों में सकल श्रीसंघ, साधर्मिक सादर आंमत्रित है ।

साधना भवन में आयोजित धर्मसभा के आगाज में सकल संघ की ओर से गुरूदेवश्री को सामूहिक गुरूवन्दन किया गया। तत्पश्चात सोनू वडेरा, श्री चिन्तामणि पार्श्व बहु मण्डल की बहिनों, अशोक वडेरा, श्रीसंघ के ट्रस्टी बाबुलाल छाजेड़ व जगदीश जैन ने स्वागत गीत प्रस्तुत किए। वहीं जैन श्रीसंघ, बाड़मेर ट्रस्टी डॉ. मांगीलाल बोहरा ने अपने विचार व्यक्त किए । अचलगच्छ जैन श्रीसंघ,  बाड़मेर के अध्यक्ष डॉ. गुलाबचन्द वडेरा ने गुरूदेवश्री सहित शोभायात्रा में पधारे सभी महानुभावों का स्वागत-सत्कार  किया । कार्यक्रम का संचालन शोभायात्रा प्रभारी मुकेश बोहरा अमन ने किया ।

गुरूदेवश्री के बाड़मेर नगर प्रवेश के भव्य वरघोड़े में जैन श्रीसंघ, बाड़मेर के अध्यक्ष एडवोकेट प्रकाशचन्द वडेरा, उपाध्यक्ष बाबुलाल मालू, महामंत्री पारसमल छाजेड़, कोषाध्यक्ष पारसमल बोहरा, सहमंत्री जगदीशचन्द बोथरा, तथा महोत्सव समिति के सह-संयोजक सम्पतराज मेहता सहित बड़ी संख्या में जैन समाज के गणमान्य नगारिक, माताएं-बहिनें, पाठशाला के बच्चे, बालिका व महिला मण्डल, युवा मण्डल के पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित रहे ।