मुख्य चिकित्सा अधिकारी के रहमो करम में चल रहे हैं ना जाने कितने अवैध नर्सिंग होम

गाजीपुर में न जाने कितने लोग मेडिकल स्टोर के आड़ में चला रहे हैं नर्सिंग होम

महिला के मौत के बाद चलेगा बाबा का मेडिकल संचालक के ऊपर बुलडोजर या फिर ले देकर मामला होगा खत्म

साल भर में न जाने कितने हो गई मौतें जिनका नहीं कोई हिसाब क्या बाबा बुलडोजर चलाकर झोलाछाप डॉक्टरों को करेंगे साफ

फतेहपुर/गाजीपुर : कस्बे में ना जाने कितने अवैध नर्सिंग होम चल रहे हैं जो कि मेडिकल स्टोर का बोर्ड लगा कर अवैध तौर पर नर्सिंग होम चला रहे हैं ना जाने कितनी बार सोशल मीडिया और प्रिंट मीडिया में खबर प्रकाशित की गई है लेकिन मुख्य चिकित्सा अधिकारी के आखो और कानों में जूं तक नहीं रेंगती इससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि संबंधित अधिकारी अपनी सांठगांठ कर लेते हैं जिनकी वजह से झोलाछाप डॉक्टरों के ऊपर कोई कार्यवाही नहीं होती। डॉक्टरों की लापरवाही से ना जाने कितनी मौतें हो गई हैं।ऐसा ही एक ताजा मामला सामने आया है जहां गाजीपुर थाना क्षेत्र के गम्हरी निवासी जयपाल रैदास की पत्नी के नाक में एक छोटा सा दाना पड़ गया था जिसके चलते बुखार आ गया था जो कि घर के परिजनों ने महिला को 20 मई को गाजीपुर के साधना मेडिकल स्टोर में दवा कराने ले गए थे जहां डॉक्टरों ने महिला को भर्ती कर लिया था और रात 2:00 बजे के लगभग महिला की मौत हो गई। जहां परिजनों ने डॉक्टरों के ऊपर गलत दवा करने और लापरवाही बरतने का आरोप लगाया और डायल 112 में फोन करके पुलिस को बुलाया साथ ही सूचना मिलने पर गाजीपुर थाना अध्यक्ष आनंदपाल सिंह मौके में पहुंचकर भडके हुए लोगों को शांत कराया और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। परिजनों का आश्वासन दिया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। सूत्रों की जानकारी के अनुसार साधना मेडिकल स्टोर का लाइसेंस सिर्फ मेडिकल स्टोर का है लेकिन अवैध तरीके से नर्सिंग होम चलाते हैं अब देखना यह है कि मेडिकल स्टोर संचालक के ऊपर बाबा का बुलडोजर चलेगा या फिर सब ले देकर के मामला खत्म हो जाएगा क्योंकि लोग भी थोड़े से रुपयों के लिए डॉक्टरों से समझौता कर लेते हैं जिसकी वजह से डॉक्टरों के हौसले बुलंद रहते हैं।