जिलाधिकारी ने रतनपुरा के कुड़वा ग्राम स्थित गो आश्रय स्थल का किया निरीक्षण

गो आश्रय स्थल पर अव्यवस्था को देख जिलाधिकारी ने कार्यदाई संस्था को सुधार करने के दिए निर्देश

मऊ जनपद के जिलाधिकारी अरुण कुमार ने रतनपुरा ब्लाक के ग्राम कुड़वा स्थित गो आश्रय स्थल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान वहां पर भारी अव्यवस्था को देख जिलाधिकारी ने कार्यदाई संस्था के प्रमुख को कड़ी फटकार लगाते हुए इसमें तत्काल सुधार लाने के निर्देश दिए। कार्यदाई संस्था के रिकॉर्ड में गो आश्रय स्थल के 140 पशुओं की संख्या दर्ज है। गणना करवाने पर मौके पर सिर्फ 116 पशु ही पाए गए। उन्होंने संबंधित खंड विकास अधिकारी को मौके पर पाए गए पशुओं से अधिक संख्या हेतु जारी धनराशि के वसूली के निर्देश दिए। 

परिसर के अंदर खुले मैदान में पड़ी मिट्टी के समतल न होने, पानी की निकासी की व्यवस्था न होने एवं अभी तक परिसर के अंदर तालाब न खुदे होने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी ने खण्ड विकास अधिकारी को इसे तत्काल पूर्ण करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने परिसर के बाउंड्री के किनारे छायादार वृक्ष लगाने के भी निर्देश दिए। पशुओं के बाँधने की व्यवस्था न होने पर एवं स्टॉक में पर्याप्त मात्रा में चारे की व्यवस्था न होने पर भी जिलाधिकारी ने इसे तत्काल ठीक कराने के निर्देश दिए। 

उन्होंने संबंधित ग्राम सभा के ग्राम प्रधान को पशुओं के लिए ग्राम सभा की जमीन पर हरे चारे की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। बीमार पड़े पशुओं के इलाज की तत्काल व्यवस्था कराने एवं एक पशु की तबीयत ज्यादा खराब होने पर उसे अस्पताल भेजकर इलाज कराने के निर्देश मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को दिए। जिलाधिकारी ने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को कार्यदाई संस्था की वित्तीय अनियमितता की जांच करने एवं गड़बड़ी पाए जाने पर संबंधित संस्था के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के भी निर्देश दिए। 

उन्होंने मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया कि अगर कार्यदाई संस्था यथाशीघ्र व्यवस्था में सुधार नहीं करती है तो इसका संविदा रद्द कर दें। परिसर के पास स्थित पंचायत भवन का निर्माण कार्य पूर्ण न होने पर उन्होंने संबंधित ग्राम विकास अधिकारी को 10 दिन के अंदर निर्माण कार्य पूर्ण करा कर आख्या प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान खाद्य विपणन अधिकारी विपुल सिन्हा, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी, तहसीलदार सदर संजीव कुमार यादव, खंड पशु चिकित्सा अधिकारी रतनपुरा, कार्यदाई संस्था के प्रमुख एवं ग्राम प्रधान उपस्थित रहे।