10 हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा गया शिक्षा विभाग का बाबू

वेतन के भुगतान के एवज में मांगी थी रिश्वत फंस गया ट्रैप टीम के जाल में

लखनऊ। एंटी करप्शन ऑर्गेनाइजेशन भ्रष्टाचार निवारण संगठन के डीआईजी राजीव मल्होत्रा के द्वारा गठित की गई ट्रैप टीमों को लगातार सफलताएं हाथ लग रही हैं। भ्रष्टाचार निवारण संगठन के डीआईजी राजीव मल्होत्रा के द्वारा आगरा इकाई के इंस्पेक्टर मृत्युंजय सिंह के नेतृत्व में गठित की गई ट्रैप टीम के जाल में आज हरदोई के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के कार्यालय में तैनात घूसखोर कनिष्ठ लिपिक जैनुलाब्दीन फंस गया और 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया। 

घूसखोर कनिष्ठ लिपिक ने नौहझील मथुरा के रहने वाले महेश कुमार से उनके बकाया वेतन का भुगतान कराए जाने के एवज में 10 हजार रुपए की रिश्वत मांगी थी। महेश कुमार की शिकायत पर डीआईजी राजीव मल्होत्रा ने घूसखोर कनिष्ठ लिपिक की गिरफ्तारी के लिए ट्रैप टीम गठित की और उनके द्वारा गठित की गई ट्रैप टीम के जाल में आज विभाग को रिश्वत के दाग से दागदार करने वाला भ्रष्टाचारी कनिष्ठ लिपिक जैनुलाब्दीन घूस की रकम के साथ रंगे हाथों बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय हरदोई से गिरफ्तार कर लिया गया । 

भ्रष्टाचार निवारण संगठन के द्वारा रंगे हाथ पकड़े गए घूसखोर कनिष्ठ लिपिक जैनुलाब्दीन के खिलाफ हरदोई की शहर कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया गया है । आपको बता दें कि लंबे समय से एंटी करप्शन ऑर्गेनाइजेशन भ्रष्टाचार निवारण संगठन में तैनात आईपीएस अधिकारी राजीव मल्होत्रा की टीमें लगातार रिश्वतखोरो के ऊपर कार्यवाही की तलवार चलाकर उन्हें उनके अंजाम तक पहुंचाने में अपनी अहम भूमिका निभा रही हैं। अक्सर देखा गया है कि जब भी किसी के द्वारा रिश्वत मांगे जाने की शिकायत भ्रष्टाचार निवारण संगठन के डीआईजी राजीव मल्होत्रा तक पहुंचाई गई तब उन्होंने भ्रष्टाचार की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए सरकार को बदनाम करने वाले भ्रष्टाचारी को उसके अंजाम तक पहुंचाने में देर नहीं लगाई।