नगर पंचायत अकबरपुर: निरीक्षण पर निकली सीडीओ मैडम को मिली गंदगी और अतिक्रण

अकबरपुर कानपुर देहात। नगर पचायतों का प्रशासनिक दायित्व मिलते ही सीडीओ सौम्या पांडेय का एक्शन लोगों को पसंद आ रहा है। नगर पंचायत अकबरपुर के निरीक्षण में गंदगी और अतिक्रमण देख पारा गरम होने पर उन्होंने तीन दिन में अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए। जनपद को स्वच्छ और हरा भरा बनाने की अपनी सोच को साकार रूप देने हेतु मुख्य विकास अधिकारी सौम्या पांडे द्वारा बुधवार सुबह करीब 6बजे अकबरपुर नगर पंचायत के आकस्मिक निरीक्षण पर निकली। इसमें सर्वप्रथम उन्होंने अकबरपुर के मुख्य बाजार के साफ सफाई की व्यवस्था देखी जिनकी शिकायतें आम जनता से लगातार आ रही थी। 

मुख्य विकास अधिकारी ने पैदल ही इस क्षेत्र का भ्रमण किया जहां उन्हें जगह जगह कूड़े के ढेर मिले, कुछ सफाई कर्मी साफ सफाई का कार्य भी कर रहे थे। अनुपस्थित सफाई कर्मी के बारे में पूछने पर सीडीओ को सफाई नायक जवाब नहीं दे पाए और इनका ठीक से निरीक्षण नही कर रहे थे। उनके पास ठीक से न तो कोई रजिस्टर पाया गया और न ही सफाई कर्मियों का रोस्टर प्लान बना था। इस पर मुख्य विकास अधिकारी सफाई नायक पर काफी नारज दिखी। उन्होंने साथ मौजूद ईओ को निर्देशित किया कि रोस्टर के अनुसार ही सफ़ाई कर्मियों से सफाई कराएं। 

निरीक्षण के दौरान किसी भी सफाई कर्मी के पास न तो ग्लब्स और न ही मास्क मिला इस पर मुख्य विकास अधिकारी ने अधिशाषी अधिकारी को निर्देशित किया कि सफाई कर्मियों को मास्क एवं ग्लब्स अवश्य उपलब्ध कराएं। वहीं मुख्य बाजार में जगह जगह मुख्य विकास अधिकारी को निरीक्षण के दौरान अतिक्रमण मिला जिस पर उन्होंने उन लोगो को चेतवानी दी की वे अपना अतिक्रमण तीन दिन के अंदर हटा ले अन्यथा बुलडोजर चला कर अतिक्रमण हटा दिया जाएगा। मुख्य विकास अधिकारी ने अकबरपुर में मुख्य मंडी का निरीक्षण किया जहां उन्हें अतिक्रमण एवं गंदगी मिली एवं शौचालय भी साफ नहीं थे। 

इस पर उन्होंने अधिशाषी अधिकारी को निर्देशित किया कि पूरा अतिक्रमण तीन दिन के अंदर हटवाते हुए उस स्थान पर चबूतरे बनवाते हुए इंटरलॉकिंग बनवाए। आगे मुख्य विकास अधिकारी ने नयागंज और नेहरू नगर में  पैदल भ्रमण  में गंदगी का अंबार मिला। जिस पर उन्होंने अधिशाषी अधिकारी को फटकार लगाते हुए कहा कि कि नालियों की साफ सफाई नियमित रूप से करवाए एवं पालीथीन मिलने पर जुर्माना करें।

 अंदर पिंक टायलेट की अत्यंत जीर्ण शीर्ण अवस्था और उसमे गंदगी देख विकास अधिकारी ने पिंक टायलेट को प्राथमिकता पर लेते हुए साफ सफाई किए जाने हेतु संबंधित को निर्देशित किया। इसके पश्चात मुख्य विकास अधिकारी ने रास्ते में पड़े कुछ तालाबों का भी देखा जिसमे अकारू तलाब, तरण तारन तालाब, राम दरबार तालाब मुख्य थे। इन सभी तालाबों में अतिक्रमण मिला जिस पर मुख्य विकास अधिकारी द्वारा उपजिलाधिकारी एवं अधिशाषी अधिकारी को निर्देशित किया कि एक संयुक्त टीम बनाकर तालाबों का अतिक्रमण हटवाये। 

तालाबों का सौंदरीकरण करवाएं। तालाब के किनारे वृक्षारोपण करते हुए लाइटिंग लगवाकर अच्छे टूरिस्ट स्पॉट की तरह विकसित करें। अकबरपुर डिग्री कालेज के पास मुख्य विकास अधिकारी को एक शौचालय मिला जो कि अत्यंत खराब स्थिति में था इसके लिए उन्होंने सफाई नायक का वेतन रोकने एवं नियुक्त सफाई कर्मी का वेतन रोके जाने के निर्देश दिए। 

उन्होंने अधिशाषी अधिकारी को चेतवानी भी जारी की, इसके पश्चात उन्होंने वहां उपस्थित नगर वासियों से भी वार्ता की। उन्होंने उनसे पूछा कि नगर को स्वच्छ बनाए जाने हेतु क्या क्या जरूरी चीजें की जा सकती है। इस पर वहां उपस्थित नगर वासियों ने मुख्य विकास अधिकारी से कहा कि जगह जगह डस्टबीन, बेंच, पीने का पानी होना चाहिए। जिससे यह क्षेत्र एक आदर्श नगर के रूप में विकसित हो सकता है।