श्रद्धालुओं ने यज्ञ वेदी में परिक्रमा लगाकर संतो से लिया आशीर्वाद

बांदा। खप्टिहाकला में श्रीराम महायज्ञ के सातवें दिन सैकड़ों भक्तों ने यज्ञ वेदी में परिक्रमा लगाकर संतो से आशीर्वादलिया। सुबह 6 बजे से ही आस-पास के गांव खरेई, अलोना, साड़ी, निवाइच, पिपरहरी, अतरहट, अमलोर गांव के सैकड़ों श्रद्धालुओं ने यज्ञ वेदी में परिक्रमा लगाकर संतोष से आशीर्वाद लिया। ब्रह्मवर्ता पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी मुनीस आश्रम जी महाराज सहस्त्र चंडी महायज्ञ का आयोजन अपने पैतृक गांव खपटिहाकला में कराया था। 

पीठाधीश्वर जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी मुनि सागर जी महाराज ने बताया कि राम जानकी मंदिर शिवाला के जीर्णोद्धार के बाद श्रीराम महायज्ञ का आयोजन कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि उनका यह पैत्रृक गांव है जहां पर ऋषि-मुनियों की हमेशा कृपा रही है। कोरोना काल में भी इस गांव में एक भी ग्रामीण को कोरोनावायरस नहीं हुआ यह अपने आप में बड़ी मिसाल है। कार्यक्रम में व्यवस्था संभाले मधुर बिहारी जी महाराज, सुरेंद्र तिवारी, राजा तिवारी, हिम्मत सिंह, राजन शास्त्री, मोहित तिवारी ने बताया कि प्रतिदिन सुबह 11 बजे से आस-पास के गांवों श्रद्धालुओं को भोजन प्रसाद ग्रहण कराया जा रहा है।

श्रीराम महायज्ञ में बद्रिकाश्रम पीठाधीश्वर जगतगुरु वासुदेवानंद सरस्वती महाराज,वृंदावन के रमणरेती के पीठाधीश्वर गुरु शरणानंद महाराज, अमृतसर पंजाब के स्वर्ण मंदिर के अध्यक्ष महामंडलेश्वर स्वामी परमानंद महाराज,कामदगिरि पीठाधीश्वर रामस्वरूपाचार्य महाराज जैसे संतों का पदार्पण हो चुका है। भागवत कथा कह रहे मलूक पीठाधीश्वर राजेंद्रदास महाराज के शिष्य धनंजयदास महाराज व रात की रासलीला का सुंदर आयोजन हो रहा है। आगामी 27 अप्रैल को विशाल भंडारा होगा।