केविन पीटरसन ने पंत को लगाई लताड़, बोले- यह फुटबॉल नहीं

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन ने दिल्ली कैपिटल्स के कप्तान ऋषभ पंत को फटकार लगाई है, क्योंकि उन्होंने राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ आईपीएल 2022 के 34वें मैच में खेल भावना की कद्र नहीं की। पीटरसन का कहना है कि वह क्रिकेट के मैदान में इस तरह का व्यवहार कभी नहीं देखना चाहते। मैच के बाद के केविन पीटरसन ने स्पष्ट रूप से कहा कि पंत बल्लेबाजों को मैदान से बाहर जाने के लिए कहने की वजह से सभी सीमाएं पार कर गए।

अंतिम ओवर में दिल्ली कैपिटल्स को 36 रन चाहिए थे। बल्लेबाज रोवमैन पॉवेल ने ओबेड मैकॉय की पहली तीन गेंदों पर लगातार तीन छक्के लगाए। डीसी को अंतिम तीन डिलीवरी में से 18 और की जरूरत थी, लेकिन तीसरी गेंद वेस्ट हाइट की वजह से विवादों में आ गई। नॉन स्ट्राइकर कुलदीप यादव ने नो बॉल चेक करने की मांग की थी, जिस पर पहले रोवमैन पॉवेल ने समर्थन किया और फिर पूरी टीम नो बॉल चेक करने की मांग करने लगी। 

इस बीच कप्तान ऋषभ पंत ने पॉवेल और कुलदीप को मैदान से बाहर आने का इशारा किया। हालांकि, सहायक कोच शेन वॉटसन ने उन्हें समझाने की कोशिश की। एक अन्य डीसी कोचिंग स्टाफ सदस्य प्रवीण आमरे मैदान में गए, लेकिन अंपायरों ने उन्हें वापस जाने के लिए कहा। इस तरह मैच थोड़ी देरी के बाद फिर से शुरू हुआ और डीसी को 15 रन से हार का सामना करना पड़ा। हालांकि, अगर वो नो बॉल होती तो नतीजा कुछ और भी हो सकता था। 

जब पंत को पॉवेल और कुलदीप को ड्रेसिंग रूम में वापस आने के लिए कहते देखा गया तो इंग्लैंड के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन ने स्टार स्पोर्ट्स के शो पर कहा, "यह क्रिकेट है, फुटबॉल नहीं। आप ऐसा नहीं कर सकते। ऋषभ पंत ने बल्लेबाजों को वापस बुलाना और कोच को खेल को रोकने के लिए मैदान में प्रवेश करना अस्वीकार्य था। मुझे आशा है कि मैं इस तरह की चीज फिर कभी नहीं देखूंगा।"

उन्होंने ये भी दावा किया, "मुझे नहीं लगता कि अगर रिकी पोंटिंग (डगआउट में) होते तो ऐसा होता। मुझे नहीं लगता कि ऐसा बिल्कुल भी हुआ होता। जोस बटलर को ऋषभ पंत के पास चलने और कहने का पूरा अधिकार है, 'अरे, तुम पृथ्वी पर क्या कर रहे हो? उनके लिए अपने एक कोच को वास्तव में मैदान पर जाने के लिए भेजना और यह सोचना कि यह सही था, मुझे नहीं लगता कि यह सही व्यवहार था। हम जेंटलमैन का खेल खेलते हैं और लोग गलतियां करते हैं।"