बिहार के पंचायत भवनों में निकली गार्ड व सफाई कर्मियों की भर्ती

पंचायत सरकार भवनों में सफाई कर्मी और गार्ड की तैनाती की जाएगी ताकि भवन और उनमें रखे उपस्कर आदि की रक्षा हो सके। साथ ही भवन की साफ-सफाई नियमित रूप से होती रहे। इसको लेकर पंचायती राज विभाग प्रस्ताव तैयार कर रहा है। संविदा पर इनकी नियुक्ति की जाएगी।

विभाग द्वारा प्रस्ताव तैयार करने के बाद इस पर कैबिनेट की स्वीकृति ली जाएगी। कैबिनेट की मंजूरी मिलने के बाद गार्ड और सफाई कर्मियों के चयन की प्रक्रिया शुरू होगी। हालांकि, इनके चयन का आधार क्या होगा और कितनी राशि इन्हें मानदेय के रूप में दी जाएगी, इस पर विभागीय स्तर पर मंथन चल रहा है। अंतिम निर्णय लिया जाना अभी बाकी है। विभागीय पदाधिकारी बताते हैं कि पंचायत सरकार भवनों में कम्प्यूटर, पंखे, कुर्सी-टेबुल, फाइलें आदि रहती हैं। इनकी सुरक्षा बेहद जरूरी है। भवन और परिसर बिल्कुल साफ-सुथरा रहे, इसके लिए वहां कर्मी की तैनाती आवश्यक है। वर्तमान में सुरक्षा और सफाई कर्मियों के लिए कोई विधिवत व्यवस्था नहीं की गई है। मालूम हो कि ग्राम पंचायत और ग्राम कचहरी के प्रतिनिधियों और कर्मियों के यहां बैठने की व्यवस्था की गई है।

32 सौ भवन बनाने का था लक्ष्य

पंचायत सरकार भवन का निर्माण मुखिया के द्वारा कराया जाना है। इसके लिए ग्राम पंचायतों को कई चरणों में राशि दी जाती है।भूमि चिह्नित करने में हुई देर से अब-तक 1500 पंचायत सरकार भवन का ही निर्माण कराया जा सका है। विभाग का निर्णय था कि 2021 तक 3200 पंचायत सरकार भवन बना दिये जाएंगे।

1500 पंचायत सरकार भवन बने : वर्तमान में करीब 1500 पंचायत सरकार भवन बन चुके हैं। वहीं, 1700 से अधिक पंचायतों में निर्माण कार्य प्रक्रियाधीन है। हालांकि राज्य के सभी 8067 पंचायतों में पंचायत सरकार भवन बनने हैं। इसका निर्माण चरणवार किया जा रहा है। तीन हजार और पंचायत सरकार भवन बनाने की सहमति प्रदान कर दी गई है। शीघ्र ही तीन हजार नई पंचायतों में भवन बनाने का कार्य शुरू होगा।