पृथ्वी को हरा-भरा व प्रदूषण मुक्त रखना हम सबका कर्तव्य: शीतल टण्डन

विश्व पृथ्वी दिवस पर जिला व्यापार मण्डल पर्यावरण समिति द्वारा विशेष बैठक का आयोजन

सहारनपुर । उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार की जिला इकाई द्वारा स्थानीय रेलवे रोड पर जिला मुख्यालय कार्यालय पर पर्यावरण संरक्षण से सम्बन्धित पूरे वर्ष में सामाजिक वानिकी प्रभाग द्वारा 20 महत्वपूर्ण तिथियों में शामिल विश्व पृथ्वी दिवस के अवसर पर एक विशेष बैठक का आयोजन किया गया। बैठक को सम्बोधित करते हुए व्यापार मण्डल के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व जिलाध्यक्ष शीतल टण्डन ने कहा कि पृथ्वी ने हमें हमारी आवश्यकता की सभी वस्तुएं दी हैं, मनुष्य ने लालच में आकर प्रकृति के साथ खिलवाड़ किया है। 

धरती पर साफ-सुथरे पर्यावरण का संकट छाया हुआ है। पृथ्वी को हरा-भरा व प्रदूषण मुक्त रखने तथा ग्रीन एण्ड क्लीन अर्थ रखने के लिए हमें अधिक से अधिक वृक्ष लगाकर धरती पर हरियाली बनाये रखना है। उन्होंने कहा कि सौर मण्डल में पृथ्वी एक मात्र ऐसा ग्रह है, जहां जीवन संभव है। पृथ्वी के वातावरण मे 78 प्रतिशत नाइट्रोजन, 21 प्रतिशत आक्सीजन तथा 3 प्रतिशत कार्बन डाई आक्साइड शामिल है। इन गैसों का समुचित मात्रा में पृथ्वी पर होना जीवन के लिए आवश्यक है, परंतु जब इन गैसों का संतुलन बिगड़ जाता है तो जीवन के लिए प्रतिकूल परिस्थितियां उत्पन्न हो जाती है।

 श्री टण्डन ने कहा कि विश्व में आयी औद्योगिक क्रान्ति के बाद से ही प्राकृतिक संसाधनों का दोहन शुरू हो गया था जो 19वीं व 20वीं शताब्दी में अपने चरम पर था। परिणाम स्वरूप विश्व की जलवायु पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा और प्रदूषण का स्तर इतना भारी पड़ गया है इसके कारण अनेक जानलेवा बीमारियां फैल रही हैं। उन्होंने कहा कि विश्व के लोगों ने अपने निजी स्वास्थ्य के चलते जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण, भूमि प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण के कारण पूरा वातावरण प्रदूषित हो रहा है। वृक्षारोपण का कटान तथा  प्राकृतिक संसाधनों का अवैध खनन आने वाले समय के लिए पर्यावरण के लिए बहुत बडा खतरा है, इससे जल संकट भी पैदा हो रहा है। यह हम सबका कर्तव्य है कि हम धरती के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए विश्व एवं राष्ट्रहित में पर्यावरण जागरूकता अभियान में शामिल हो और धरती पर सभी लोग सुखी रहें और पर्यावरण प्रदूषित न हो। आज के दिन  यही संकल्प लेना होगा। 

श्री टण्डन ने कहा कि विश्व पृथ्वी दिवस मनाने का आरंभ 22 अप्रैल 1970 से शुरू हुआ था और आज के संदर्भ में धरती पर प्रतिदिन दो लाख लोग बढ़ रहे हैं। दुनिया की आबादी साढे सात सौ करोड़ से अधिक हो चुकी है। उन्होंने कहा कि हम सबको धरती बचाओ, जीवन बचाओ जीवन को खुशहाल बनाओ, प्रकृति से सही तालमेल बनाओ इसके प्रति जागरूक रहते हुए व्यापक जनजागरण अभियान चलाना होगा। श्री टण्डन ने कहा कि पर्यावरण जागरूकता अभियान के कार्यक्रमों में सम्बन्धित विभाग के अधिकारी उदासीन हैं, और सामाजिक व पर्यावरण क्षेत्र से जुड़े संगठन ही जहां तक संभव हो पा रहा है, अग्रणी भूमिका निभा रहे हैं। प्रदेश सरकार को भी इस ओर प्रभावशाली कार्यक्रम करने के आदेश जारी करने चाहिए। 

बैठक प्रमुख रूप से जिलाध्यक्ष शीतल टण्डन, जिला महामंत्री रमेश अरोड़ा, जिला कोषाध्यक्ष राजीव अग्रवाल, पर्यावरण समिति के जिला संयोजक मेजर एस.के.सूरी, पवन कुमार गोयल, रमेश डाबर,संदीप सिंघल, कर्नल संजय मिडढा आदि उपस्थित व्यापारी प्रतिनिधियों विश्व पृथ्वी दिवस पर धरती को प्रदूषण मुक्त बनाये रखने में अपनी भागेदारी बनाये रखने के लिए संकल्प लिया।