प्राईवेट आईटीआई संचालकों ने विकास भवन किया प्रदर्शन, सीडीओ को सौंपा ज्ञापन

सहारनपुर। अखिल भारतीय प्राइवेट आईटीआई मैनेजमेंट एसोसिएशन ने आज विकास भवन पर जोरदार नारेबाजी कर अपनी समस्याओं से सम्बन्धित दो सूत्रीय ज्ञापन मुख्य विकास अधिकारी को प्रेषित अविलम्ब निस्तारण कराने की मांग की। प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए एसोसिएशन के राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ अशोक मलिक ने कहा कि आईटीआई के छात्र छात्राओं का परीक्षा परिणाम भारत सरकार के डीजीटी के द्वारा देरी से जारी करने के कारण 35000 छात्र छात्राओं का छात्रवृत्ति का डाटा फस गया है ।

जो परिणाम दो  महा पूर्व आना था व परीक्षा परिणाम संस्थान के लेवल से वेरीफाई करने एक दिन पूर्व 19 फरवरी की रात को परिणाम घोषित हुआ जिस प्रकार संस्थान के संचालकों ने बिना परिणाम घोषित हुए प्रमोटेड करते हुए विदाउट अंकपत्र के समय रहते संस्थान लेवल से फॉरवर्ड कर दी है अब समाज कल्याण विभाग रिजल्ट की हार्ड कॉपी के आधार पर डिस्ट्रिक्ट लेवल पर वेरीफाई करने के लिए आनाकानी करें कर रहे हैं  इस प्रकार मुख्य विकास अधिकारी के द्वारा समाज कल्याण अधिकारी एवं पिछड़ा वर्ग अधिकारी से परीक्षा परिणाम की हार्ड कॉपी के आधार पर आगे फॉरवर्ड कराने के लिए  मुख्य विकास अधिकारी ने समाज कल्याण अधिकारी पिछड़ा वर्ग अधिकारी से वार्ता करके समस्या का निस्तारण अविलंब करने का आदेश जारी कर दिए हैं।

श्री मलिक ने कहा की जेडी प्रशिक्षु कार्यालय पर मंडल स्तर पर एकवरिष्ठ सहायक लिपिक गोविंद राम कार्य देखता है  23000  छात्रों का डाटा लंबित है 6 फरवरी सत्यापन करने की आखिरी तारीख है इसलिए  एसोसिएशन के द्वारा उक्त बाबू को रिलीव करा कर जेडी कार्यालय से संबंध कराने के आदेश मुख्य विकास अधिकारी ने जारी कर दिए हैं  ताकि समय रहते विभाग द्वारा सभी छात्रों का सत्यापन करा कर  समाज कल्याण विभाग को अग्रसारित किया जा सके इस अवसर पर चंद्रपाल उस पप्पू केपी सिंह, अमित कुमार, विश्वास राठी, रविंद्र शर्मा विजय माकन, दीपक कुमार, कंवरपाल सिंह, जितेंद्र कुमार, अमित चौधरी, अमित कुमार आदि भारी संख्या में प्रबंधक मौजूद रहे।