इजहार ये मोहब्बत अपनों के संग

ख्वाब  से  लेकर  हकीकत  तक ,

अपनों  की  अपनों  से  बात  हो ।

जरूरत  से   लेकर   चाहत  तक ,

संग   इजहार  ये   मोहब्बत   हो ।


दिलों  की   हर   ख्वाहिश  सदा ,

सुंदर   सा  अंदाज  में  बयां  हो ।

उम्र  के  हर  मोड़  हर   राह  में ,

चाँद  तारों   सा   तालुकात  हो ।


तपती  धूप  से  लेकर  छाँव तक ,

तिनका भर भी गम न पास आये ।

मुलाकात  से  लेकर  याद   तक ,

होठों  से  मुसकुराहट  न   जाये ।


              ज्योति नव्या श्री

       रामगढ़ ,झारखंड