सुंदर वसंत

मनभावन वसंत का हुआ आगमन

आते ही मन मोह लेता पावन

वसंत से पहले पतझड़ों में

खड़-खड़ पत्ते झरझर पत्ते

रातों भर  गिरते उड़ते पत्ते ।

जग की रौनक खुशियां से

खिल उठते जग मानों जगमग

पुष्पों की सुंदर सी सुगंध मनोहर

वयातों के साथ बहती संगम

जग की हरियाली लगते भावन ।

वसंत की खुशहाली आगमन से

 पेड़-पौधों में आ जाते मंजरी

खिल उठते बगीचों की कोमल हृदय

पेड़-पौधों की खूबसूरत पुष्पों से

आते  रहते हैं मृदुल सुगंध

वसंतों के प्रातः कालीनों में

सुंदर सुगंधित सी बहते पवन

सुबह में चहचहाती पक्षियों के चहक

कु-कुहाती कोयलों की मृदुल मनसा चंचल

पक्षियों की आनंदों की उत्साह चंचल

उठाते पक्षियां प्राकृतिक की सुंदर उमंग

मनभावन बसंत का हुआ आगमन ।।     

राजा कुमार ' चौरसिया '

सलौना ,बखरी , बेगूसराय