सावधान ! कोरोना की चौथी लहर की संभावना हुई तेज

डेल्टा व ओमिक्राॅन के आपसी संगम से नया वेरिएंट डेल्टाक्राॅन की उत्पत्ति

सहारनपुर। कोरोना की दूसरी लहर में डेल्टा वेरिएंट ने भारत समेत विश्व के अनेक देशों में जो तबाही मचायी थी, उसे कभी भुलाया नहीं जा सकेगा। डेल्टा के बाद ओमिक्राॅन वेरिएंट ने दस्तक दी जो डेल्टा जैसा खतरनाक तो नहीं था लेकिन इसके संक्रमण की गति बेहद तेज थी। आज भी इससे संक्रमित लोग पाये जा रहे हैं और मौत का सिलसिला भी लगातार चल रहा है। ओमिक्राॅन से संक्रमित पहला व्यक्ति दक्षिण अफ्रीका में पाया गया था लेकिन कुछ ही समय बाद इसने भारत समेत पूरे विश्व में अपने पांव प सार लिये।

 अब डेल्टा और ओमिक्राॅन से मिलकर एक नया वेरिएंट डेल्टाक्राॅन सामने आया है। अभी तक यह नया वेरिएंट चीन तक सीमित है और इससे संक्रमित दो लोगों की जान भी जा चुकी है। यही कारण रहे कि चीन में जांच की गति बढ़ा दी गयी है और कई शहरों में लाॅकडाउन लगाते हुए किसी अन्य देश में जाने की इजाज़त नहीं है। जब दक्षिण अफ्रीका से ओमिक्रॅान यहां आ सकता है तो चीन से यह नया वायरस यहां भी पहुंच सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगइन (डब्ल्यूएचओ) भी कोरोना की चौथी लहर की संभावनाएं व्यक्त कर चुका है। 

ऐसे में हम सभी को कोरोना से सम्बन्धित सरकार की गाइडलाईन का पालन करना होगा अन्यथा लापरवाही का खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। डेल्टा की दूसरी लहर ने लाशों का अम्बार लगा दिया है। उस मंजर को भुलाना नामुमकिन है जब ऑक्सीजन की किल्लत, अस्पतालों में बेड्स की कमी, लाॅकडाउन में खाद्द पदार्थों का अभाव, आर्थिक तंगी जैसे अनेक संकट देखने को मिले थे। लोक अपनों को लगातार खो रहे थे। ऑक्सीजन की कमी होने पर अपने मुंह से सांस देकर अपनों का जीवन बचाने के प्रयास किये जा रहे थे। 

अंतिम संस्कार न कर पाने पर लाशों को नदियों में बहाया जा रहा था। राहत की बात ये है कि हम उस खतरनाक मंजर से अब बाहर आ चुके हैं लेकिन कोरोना की चौथी लहर में डेल्टाक्राॅन क्या सितम ढ़ायेगा, ये अभी कहा नहीं जा सकता। वैक्सीन की दोनों खुराक ले चुके लोग सुरक्षित माने जा रहे हैं लेकिन इसके बावजूद दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी को प्राथमिकता के आधार पर अपनाना होगा ताकि अपने को सुरक्षित रखा जा सके। 

जिन लोगों ने अभी तक वैक्सीन का कवच नहीं पहना है, वे जल्द से जल्द कोरोना की वैक्सीन जरूर लगायें। अब तो 12 से 14 वर्ष के बच्चों को भी वैक्सीन लगायी जा रही है। यदि हमारा पूरा देश वैक्सीनेटेड होगा तो हम सभी कोरोना के नये वेरिएंट का सामना करने में सक्षम होंगे। अब देखना ये है कि डेल्टाक्राॅन भारत समेत अन्य देशों में कब दस्तक देगा जिसके प्रति हमें अभी से सावधानी बरतनी होगी।