कवि सुशील सिद्धार्थ की पुण्यतिथि पर आयोजित हुआ कार्यक्रम

ब्यूरो , सीतापुर : जनपद सीतापुर के सिधौली में कवि सुशील सिद्धार्थ की पुण्यतिथि पर एक कार्यक्रम कर तहसील के सामने आयोजित स्मृति सभा में मनाई गई । जिसमें अधिवक्ता एवं लेखक अनूप कुमार ने स्व. सिद्धार्थ के व्यक्तित्व पर टिप्पणी करते हुए कहा कि वे मात्र एक कवि ही नहीं थे, बल्कि एक भाषाविद, व्यंग्यकार, सम्पादक, शोधकर्ता और सबसे बढ़कर एक सजग संस्कृतिकर्मी भी थे। उनका असमय प्रयाण अवधी जगत की एक ऐसी क्षति है जिसे कभी पूरा नहीं किया जा सकता। 

अवधी व हिन्दी के कवि देवेन्द्र कश्यप ‘निडर’ ने सुशील जी को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि वे अवधी के आधुनिक साहित्यकारों में अग्रगण्य थे। और उन्होंने कविता में पढ़ीस और वंशीधर शुक्ल की जनपक्षधर परम्परा को आगे बढ़ाने का करी किया । वही गोष्ठी के मुख्य अतिथि वयोवृद्ध लोकतंत्र सेनानी चन्दूलाल दीक्षित ने अवधी कविता की परम्परा पर प्रकाश डालते हुए कहा कि पहले शादी-विवाह के मौके पर शिष्टाचार होता था। जिसमें लोग अवधी की कविताएँ भी सुनाते थे। और दर्जनों कविता लोगो को याद भी रहती थी । लेकिन अब अवधी कविता भी अपनी जनता से कट गई है और चुटकुलेबाजी तक सीमित रह गई है। इस पुण्यतिथि कार्यक्रम में वरिष्ठ अधिवक्ता हरिनारायण सिंह, पंकज मिश्रा, भोला सिंह’, सहित अन्य लोग भी उपस्थित हुए ।