जेठ की दुपहरी

वन  तरु  मुरझाई,

       नद  नीर  उग्र हुई,

पावक उगल रही,

        जेठ  की दुपहरी।


हलक  करे  गुहार,

       मस्तक पर प्रहार,

चारों और अंधकूप,

      प्यास  लगी  गहरी।


शीतल पादप छांव,

       ढूंढ रहे थके पांव,

मूर्छित  हुए  विहग,

        विह्लल जन शहरी।


बदन  आस  लगाये,

        मार्तण्ड धीमा हो जाये,

समीर की तप्त तेज,

         घटे   लू   की   लहरी।


         ✍️ ज्योति कुमारी

         रामगढ़, झारखण्ड