उप जिलाधिकारी ने अवैध निर्माण को तत्काल प्रभाव से कराया बंद

चित्रकूट। मानिकपुर,आपको बता दें कि नगर पंचायत मानिकपुर द्वारा रेलवे की सरकारी पड़ी करोड़ों रुपये की जमीन पर भूमाफिया अवैध कब्जा कर निर्माण कार्य कर रहे थे जिस पर उपजिलाधिकारी मानिकपुर प्रमेश श्रीवास्तव द्वारा विवादित स्थल पर नगर पंचायत मानिकपुर द्वारा कराये जा अवैध निर्माण कार्य को तत्काल प्रभाव से बंद करवा दिया था और विवादित स्थल की जांच के लिये नायब तहसीलदार मानिकपुर को निर्देशित किया था जिसपर नायब तहसीलदार द्वारा जांच कर अपनी आख्या उपजिलाधिकारी को सौंपी गई जिसपर यह स्पष्ट किया गया है कि नगर पंचायत मानिकपुर द्वारा जिस सरकारी जमीन को अपनी बता कर अवैध कब्जा किया जा रहा है वह जमीन गाटा संख्या 26 और गाटा संख्या 27 मिल्कियत सरकार अर्थात रेलवे के नाम पर दर्ज है, उपजिलाधिकारी ने नगर पंचायत मानिकपुर के अधिशाषी अधिकारी राम अशीष वर्मा से तीन दिनों के अन्दर जमीन से सम्बन्धी अपने अभिलेख प्रस्तुत करने का आदेश दिया है। अब प्रमुख सवाल यह उठता है कि क्या नगर पंचायत द्वारा जमीन के जाली एवं फर्जी दस्तावेज तैयार करके जिले के ईमानदार जिलाधिकारी एवं अन्य आला अधिकारियों को गुमराह करके निर्माण करने के लिए आदेश जारी करवाया था,जब उपजिलाधिकारी द्वारा करवाये गये जांच में यह स्पष्ट हो गया है कि उक्त जमीन रेलवे की सरकारी सम्पत्ति है तो जिलाधिकारी एवं अन्य आला अधिकारियों द्वारा नगर पंचायत के अधिशासी अधिकारी एवं इससे जुड़े हुए तमाम लोगों के खिलाफ जालसाजी एवं अवैध कब्जा करने के लिए कानूनी कार्यवाही करनी चाहिए। इस सम्बंध में वरिष्ठ भाजपा नेता जितेन्द्र मोहन शुक्ल ने बताया कि मामला बहुत ही गंभीर है और नगर पंचायत मानिकपुर द्वारा नगर के गरीब परिवार के लोगों का अतिक्रमण हटाने के नाम पर शोषण किया जाता है और वहीं दूसरी तरफ वही नगर पंचायत मानिकपुर रेलवे की सरकारी पड़ी करोड़ों रुपये की जमीन पर अवैध कब्जा किया जा रहा है यह बहुत ही शर्मनाक है,उन्होंने जिले के जिम्मेदार अधिकारियों से एन्टी भू माफिया कानून के तहत नगर पंचायत द्वारा अवैध कब्जे पर बुलडोजर चलवाने की मांग की है,भाजपा नेता ने कहा है कि वह बहुत जल्दी जिलाधिकारी चित्रकूट से मिलकर सारी बातें बताकर इस अवैध कब्जे से जुड़े सभी लोगों के ऊपर कानूनी कार्यवाही की मांग करेंगे।