RTI से मिली जानकारी, कोरोना काल में भी रेलवे ने की जबरदस्त कमाई

नई दिल्ली : कोरोना की वजह से रेलवे को कई ट्रेनों का संचालन बंद करना पड़ा था। इसके बावजूद भी साल 2020-21 में रेलवे ने तत्काल टिकट के जरिए खूब पैसा कमाया। एक RTI के जवाब में मिली जानकारी के अनुसार 403 करोड़ रुपये की आमदनी तत्काल टिकट से और 119 करोड़ रुपये की कमाई प्रीमियम तत्काल टिकट से हुई है। बता दें, तत्काल टिकट की बुकिंग अंतिम समय में की जाती है। इसलिए तत्काल बुकिंग के लिए अधिक पैसा खर्च करना होता है। मध्यप्रदेश के चंद्रशेखर गौड़ के RTI के जवाब में रेलवे ने कहा कि सितंबर 2021 तक 240 करोड़ रुपये डायनेमिक किराया, 353 करोड़ रुपये तत्काल टिकट और 89 करोड़ रुपये प्रीमियम तत्काल टिकट से कमाए हैं। साल 2019-20 में जब सभी परिस्थितियां सामान्य थी तब डायनेमिक किराये से 1,313 करोड़ रुपये, 1,669 करोड़ रुपये तत्काल टिकट और 603 करोड़ रुपये तत्काल टिकट से हुई थी। एक महीने पहले ही संसदीय स्थाई समिति ने इस तत्काल टिकट के किरायों पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि यह राशि वित्तीय रूप से कमजोर के लिए किसी बोझ से कम नहीं है। समिति ने बात पर इच्छा थी कि मंत्रालय यात्रा की गई दूरी के लिए आनुपातिक किराए के लिए उपाय करे। समिति ने तब दुरंतो, शताब्दी और राजधानी ट्रेनों का उदाहरण देते हुए कहा कि इनके किराये अन्य मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों की तुलना में काफी अधिक है। कई बार तो यह एयरलाइंस के किराये को भी क्राॅस कर जाता है। ऐसे में फ्लेक्सी या डायनेमिक किराये कुछ हद तक भेदभाव पूर्ण दिखाई देते हैं।