अपना वोट नहीं देंगे

लो संकल्प की

गुण्डों को हम,

अपना वोट नहीं देंगे।

जालिम और दरिंदों को हम,

अपना वोट नहीं देंगे।

जात और नफरत के बल पर,

जो तोड़े ताना बाना,

ऐसे दहशतगर्दों को हम,

अपना वोट नहीं  देंगे।

जो निर्माणों में शामिल हो,

निर्माणों को लूट लिए,

ऐसे क्रूर डकैतों को हम,

अपना वोट नहीं देंगे।

जिसकी रसरी बनी जुल्म से,

जिसको शासन बरता है,

उन फांसी के फंदों को हम,

अपना वोट नहीं देंगे।

जिनकी काली आय देखकर,

लोकतंत्र शर्मिंदा है,

ऐसे रावण कंसों  को हम,

अपना वोट नहीं देंगे।

जिन्हें देश की सम्पति बिक्री,

नहीं दिखाई देती है,

ऐसे आँख के अंधों को हम,

अपना वोट नहीं देंगे।

थोड़ी दिक्कत होगी झेलें,

लेकिन अबकी तय कर लें,

किसी धर्म के पण्डों को हम,

अपना वोट नहीं देंगे।

विजय माल्या, नीरव  मोदी,

मेहुल भाई से कह दो,

अबकी तेरे  बन्दों को हम, 

अपना  वोट नहीं  देंगे।

है विकल्प जन  संघर्षों में,

उसे तलाशें फिर बोलें,

जाफर या जयचंदों को हम,

अपना वोट नहीं देंगे।

धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव

सम्पादक

राष्ट्रपुरुष चन्द्रशेखर - सन्सद में दो टूक

लोकबन्धु राजनारायण - विचार पथ एक