॥ हमें फिक्र है ॥

हमें फ़िक्र है उन गद्दारों की जो

देश की दुश्मन की शह पर चलता है

हमें फिक्र है उन बेईमानों   की जो

देश की इज्जत से खिलवाड़ करता है


हमें फिक्र है उन चोरों की  जो

राजकोष को मिलकर लूटता है

हमें फिक्र है उन मौसेरो भाई की

जो दुश्मन की भाषा में बात करता है


हमें फिक्र है उन यारों की जो

दुश्मन देश से यारी रखता  है

हमें फिक्र है उन सारे  की जो

विदेशी धरती पर बेतुका बकता है


हमें फिक्र है उन शायरों की जो

देश की छवि धूमिल करता है

हमें फिक्र है उन राहों की जो

पथ पर काँटों की खेती करता है


हमें फिक्र है उन नमक हरामों की 

जो आतंकी से रिश्ता रखता है

हमें फिक्र है उन कायरों की जो

दोस्त के नाम पर षड़यंत्र रचता हे


उदय किशोर साह

मो० पो० जयपुर जिला बाँका बिहार

9546115088