चीन में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मामले, देश ने अमेरिकी उड़ानों को रद करने का दिया आदेश

वाशिंगटन । चीन में तेजी से कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। कोरोना के यह नए मामले यात्रियों के ग्रुप से जुड़े हुए हैं। अचानक से बढ़ते कोविड-19 के मामलों ने देश की चिंता बढ़ा दी है। चीन शुरू से ही महामारी के दौरान सख्ती अपनाया है। देश में लाकडाउन और सीमाओं पर कड़े प्रतिबंध लगाए जाते रहे हैं। वहीं हाल के हफ्तों में अमेरिका से आए यात्रियों में कोविड-19 के लिए सकारात्मक परीक्षण किया गया, जिसके बाद चीन ने संयुक्त राज्य अमेरिका से दो दर्जन से अधिक अनुसूचित उड़ानों को रद्द करने का आदेश दिया है।

देश में तेजी से बढ़ रहे नए मामलों के बीच, चीन के विमानन नियामक ने अपने COVID-19 महामारी नियमों के तहत शंघाई के लिए कुल आठ अनुसूचित अमेरिकी यात्री एयरलाइन उड़ानों को रद्द करना अनिवार्य कर दिया है, जिनमें चार यूनाइटेड एयरलाइंस, दो डेल्टा एयर लाइन्स और दो अमेरिकन एयरलाइंस की उड़ानें शामिल हैं।

डेल्टा एयर लाइन्स ने कहा कि उसने पिछले शुक्रवार और 14 जनवरी को डेट्राइट से शंघाई की सभी उड़ानें रद्द कर दीं, क्योंकि चीनी शासन के अनुसार कई यात्रियों में COVID-19 के लिए सकारात्मक परीक्षण किया गया।

वहीं चीन के नागरिक उड्डयन प्रशासन (CAAC) ने भी सकारात्मक COVID-19 परीक्षणों के बाद दिसंबर से चीनी वाहक द्वारा संचालित कम से कम 22 अन्य अमेरिकी उड़ानों को रद्द कर दिया है, जिसमें चाइना सदर्न एयरलाइंस कंपनी द्वारा आठ अन्य उड़ानें शामिल हैं।

अमेरिका कोरोना वायरस के दंश को तो झेल ही रहा था कि वायरस का नया वैरिएंट ओमिक्रोन भी देश में चरम पर है। अमेरिका में नवीनतम कोरोना वायरस के आंकड़े सोमवार तक 6 करोड़ के भी पार हो गए हैं। जो वैश्विक कोरोना संख्या का लगभग 20 फीसद है। सोमवार को ओमिक्रोन वैरिएंट के 132,646 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जो जनवरी 2021 में निर्धारित 132,051 के रिकार्ड को भी पार कर गया है।

COVID-19 महामारी के बाद से, चीन और संयुक्त राज्य अमेरिका ने हवाई सेवाओं को लेकर विवाद जारी है। बीजिंग द्वारा यूनाइटेड एयरलाइंस की चार उड़ानों पर समान सीमा लागू करने के बाद अगस्त में, USDOT ने चीनी वाहकों से चार उड़ानों को चार सप्ताह के लिए 40 फीसद यात्री क्षमता तक सीमित कर दिया गया है।