नेशनल यूथ डे पर अजय देवगन ने खुद को लिखा लेटर, 20 साल की उम्र में मिले रिजेक्शन पर सुनाई आपबीती

एक्टर अजय देवगन ने साल 1991 में फिल्म फूल और कांटे से अपने करियर की शुरूआत की थी। एक्टर को इंडस्ट्री में 31 साल पूरे हो चुके हैं। अजय डायरेक्ट वीरू देगवन के बेटे हैं। एक्टर ने अपनी लाइफ में बहुत स्ट्रगल किया है। अजय को काफी रिजेक्शन झेलना पड़ा है, लेकिन कभी हार नहीं मानी। इस कारण अजय की गिनती आज टॉप बॉलीवुड स्टार्स में होती है। 12 जनवरी को नैशनल यूथ डे पर 20 साल के अजय के बहाने खुद को एक लेटर लिखा है। एक्टर ने खुद झेले रिजेक्शन और असफलताओं के बारे में बताया है। 

अजय ने लेटर ने लिखा-एक एक्टर के तौर पर तुम इस नई दुनिया में अपनी पहचान बना रहे हो...मैं ईमानदारी से बताना चाहूंगा कि तुम्हें कुछ बहुत ही कठोर और निष्ठुर रिजेक्शन झेलने पड़ेंगे। शर्मीले और स्वच्छंद होने के नाते तुम फिर भी यहां फिट होने की कोशिश करोगे, लेकिन फेल हो जाओगे। लोग आलोचना करेंगे, डाउट करेंगे, जिसे झेलना मुश्किल होगा। इसके कारण तुम अपने सपनों पर सवाल उठाने के लिए मजबूर हो जाओगे। सफल होने से ज्यादा तुम फेल हो जाओगे। अजय ने आगे ने लिखा-लेकिन बता दूं कि इसका फल बहुत अच्छा होगा क्योंकि एक दिन, भले ही धीरे ही सही तुम्हें अहसास होगा कि तुम जो हो वही रहना, तुम्हारी कितनी बड़ी ताकत है। 

इसलिए थोड़ी ठोकर खाओ पर रुको मत। अपनी तय सीमाओं से बाहर निकलते रहो और इस दुनिया की उम्मीदों को अपनी रुकावट मत बनने दो। हमेशा सच्चे और जो हो वही रहना। प्लीस डांस करना सीख लो, यह लंबी रेस में तुम्हारी हेल्प करेगा। फैंस इस पोस्ट को काफी लाइक कर रहे हैं। बता दें 1991 में डेब्यू करने से पहले ही अजय देवगन ने अपना नाम बदल लिया था। पहले उनका नाम विशाल देवगन था। उस समय कई और लोगों का नाम भी विशाल था, इसलिए अजय ने अपना नाम बदल लिया। फूल और कांटे जैसी सुपरहिट फिल्म देने के बाद एक्टर ने जिगर, दिल है बेताब, संग्राम, दिलवाले, कानून, विजयपथ और सुहाग जैसी कई और हिट फिल्में दी।