1.5 करोड़ श्रमिकों को चुनावी गिफ्ट, योगी ने खाते में भेजे 1-1 हजार रुपए, अभी 2.31 करोड़ और लोगों को भेजा जाएगा

लखनऊ। यूपी विधानसभा चुनाव से पहले योगी सरकार ने असंगठित क्षेत्रों में काम करने वाले श्रमिकों को बड़ी सौगात दी। ऐसे रजिस्टर्ड श्रमिकों के खाते में 1000 रुपए सरकार ने ट्रांसफर किए हैं। योगी सरकार 3 करोड़ 81 लाख श्रमिकों के खाते में 1 हजार रुपए भेजेगी। पहले चरण में 1.5 करोड़ श्रमिकों के खाते में सोमवार को 1 हजार रुपए भेजे गए। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, 2017 से पहले श्रमिकों का शोषण होता था। पहले न तो मकान बना पाता था, न गैस कनेक्शन हो पाता था और न ही स्वास्थ्य सुविधाएं मिलती थीं। अब जब से भाजपा सरकार आई ये सभी सुविधाएं दी जा रही हैं। पहले श्रमिकों के बच्चों के लिए पढ़ाई की व्यवस्था नही थी, हमारी सरकार आते ही सभी सुविधाएं दी। ये श्रमिक निर्माण कार्य करेंगे और इनके बच्चे अटल आवासीय विद्यालय में पढ़ेंगे। दरअसल, ई-श्रम पोर्टल की शुरुआत इसी साल की गई थी, जिससे असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले श्रमिकों का डेटाबेस तैयार हो सके। सरकार का मुख्य मकसद जानकारी हासिल करना है कि कितने लोग असंगठित क्षेत्र में काम कर रहे हैं, जिन तक सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाना है। देश के किसी भी कोने में काम करने वाला असंगठित क्षेत्र का कामगार ई-श्रमिक पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवा सकता है। पंजीकरण के लिए तीन विकल्प उपलब्ध हैं, जिसमें से पहला सेल्फ रजिस्ट्रेशन, दूसरा कॉमन सर्विस सेंटर और तीसरा स्टेट सेवा केंद्र है। वैसे तो आप ऑनलाइन जाकर खुद भी पोर्टल पर पंजीकरण करवा सकते हैं। अगर आप खुद रजिस्ट्रेशन नहीं करवाना चाहते हैं तो कॉमन सर्विस सेंटर में जाएं। ई-श्रम कार्ड बनवाने पर व्यक्ति को 2 लाख रुपए का दुर्घटना बीमा मिलता है। इसके तहत दुर्घटना से हुई मृत्यु अथवा स्थायी रूप से विकलांग होने पर दो लाख और आंशिक रूप से विकलांग होने पर एक लाख रुपए की अनुदान राशि मिलती है। ई-श्रम कार्ड बनवाने पर यूपी में 500 रुपए प्रति महीने दिए जाने की घोषणा की गई है। ई-श्रम कार्ड से आने वाले समय में सरकार की ओर से श्रमिकों के लिए लाई जाने वाली किसी भी सुविधा का सीधा लाभ मिल सकेगा। ई-श्रम कार्ड से भविष्य में पेंशन की सुविधा का लाभ मिल सकता है।