कामनायें कब होती है पूरी

सदियों से पिपासित चातक तृषित ही रह जाता है,

मकरंद मोहपाश में मधुप,मुकुल में फँस जाता है।

विहँसते दीप लौ की मोहमाया में,पतंगा प्राण गंवाता है,

अथाह नदिया भी बिन जलधि रहती है अधूरी,

सबकी कामनायें कब होती है पूरी...

नभ की तपन को बुझाने बरखा रानी आती है,

वह भी तो कुछ पल ही वहाँ रुक पाती है।

अवनि के आँचल में रजत कण की बूँद बनकर,

विलग होती मेघ से,धरा में समा जाती है।

क्षणभंगुर अस्तिव लिये असीम इच्छाओं की धूरी,

सबकी कामनायें कब होती है पूरी...

चक्षुओं के कोरों से दृगकण का पुराना नाता है,

ढुलकता अश्रुकण,उर उच्छवास में समाता है।

प्रीतिमय,अप्रतिम सदा साथ निभाने वाला,

बाकी सब बेमानी,यही एक रिश्ता ज़माने वाला।

तेरे क्षार जल से मैंने कितनी यादें हैं जोड़ी,

हाँ,तूने ही मेरी कामनायें की है पूरी।

                रीमा सिन्हा

          लखनऊ-उत्तर प्रदेश