दो टूक : देश के शैदा हों

जो काम 

आज़ादी के बाद

तुरन्त होना चाहिए था

वह आज़ादी के

पचहत्तरसाला

जश्न के अवसर पर हुआ

इसलिए विश्वविद्यालय 

शिलान्यास से

आज़मगढ़ धन्य हुआ

इसलिए बधाई के पात्र हैं

मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ

गृहमन्त्री अमित शाह

अब इसके नाम को लेकर 

आह आह करने की जगह

कुछ ऐसा करिए 

नई पीढ़ी में भी

राहुल सांकृत्यायन

अयोध्या सिंह उपाध्याय 'हरिऔध'

गुरुभक्त सिंह

और शिबली नोमानी 

पैदा हों

हमारे आपके 

घर के नवजवान 

हथियारों के नहीं

व्यक्तियों के नहीं

देश के शैदा हों।

-धीरु भाई